आज शयाम संग  सखियन मिलि ब्रज में होरी खेलैं ना।

इत ते निकसीं नवल राधिका उत ते कुँअर कन्हाई ना।
हिलमल फाग परस्पर खेलैं शोभा बरनि न जाई ना॥

बाजत झांझ मृदंग ढोल डफ मंजीरा शहनाई ना।
उड़त गुलाल लाल भये बादर शोभा बरनि न जाई ना॥