Archives for General Knowledge - Page 2

सामान्य ज्ञान 63 (General Knowledge)

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सौजन्यः श्री रवि यादव Mo. +91 9728720725

हिन्दी में सामान्य ज्ञान (Samanya Gyan in Hindi)

आज के पोस्ट का विषय है विभिन्न सिद्धांतों के जनक सामान्य ज्ञान (Father of Different Theories General Knowledge)

पेश है हिन्दी में विभिन्न सिद्धांतों के जनक से संबंधित सामान्य ज्ञान (Father of Different Theories General Knowledge in Hindi) के बारे में जानकारी।

Father of Different Theories General Knowledge

विलियम जेम्स को मनोविज्ञान के जनक कहा जाता है।

विलियम जेम्स को आधुनिक मनोविज्ञान के जनक जाता है।

विलियम जेम्स को प्रकार्यवाद साम्प्रदाय के जनक जाता है।

विलियम जेम्स आत्म सम्प्रत्यय की अवधारणा के प्रतिपादक हैं।

थार्नडाइक को शिक्षा मनोविज्ञान के जनक जाता है।

थार्नडाइक प्रयास एवं त्रुटिसिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

थार्नडाइक प्रयत्न एवं भूल का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

थार्नडाइक संयोजनवाद का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

थार्नडाइक उद्दीपन-अनुक्रिया का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

थार्नडाइक को S-R थ्योरी के जन्मदाता कहा जाता है

थार्नडाइक अधिगम का बन्ध सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

थार्नडाइक संबंधवाद का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

थार्नडाइक प्रशिक्षण अंतरण का सर्वसम अवयव का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

थार्नडाइक बहु खंड बुद्धि का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

बिने तथा साइमन बिने-साइमन बुद्धि परीक्षण के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

बिने बुद्धि परीक्षणों के जन्मदाता हैं।

बिने एक खंड बुद्धि का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

स्पीयरमैन दो खंड बुद्धि का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

स्पीयरमैन तीन खंड बुद्धि का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

स्पीयरमैन सामान्य व विशिष्ट तत्वों के सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

स्पीयरमैन बुद्धिका द्वय शक्ति का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

गिलफोर्ड त्रि-आयामबुद्धि का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

गिलफोर्ड बुद्धि संरचना का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

थर्स्टन समूह खंड बुद्धि का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

थर्स्टन युग्म तुलनात्मक निर्णय विधि के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

थर्स्टन क्रमबद्ध अंतराल विधि के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

थर्स्टन व चेव समदृष्टि अन्तर विधि के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

थॉमसन न्यादर्श या प्रतिदर्श(वर्ग घटक) बुद्धि का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

बर्ट एवं वर्नन पदानुक्रमिक(क्रमिक महत्व) बुद्धि का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

आर. बी. केटल तरल-ठोस बुद्धि का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

आर. बी. केटल प्रतिकारक (विशेषक) सिद्धांत के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

हैब बुद्धि ‘क’ और बुद्धि ‘ख’ का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

स्टर्न एवं जॉनसन बुद्धि इकाई का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

विलियम स्टर्न बुद्धि लब्धि ज्ञात करने के सुत्र के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

विलियम वुण्ट संरचनावाद साम्प्रदाय के जनक हैं।

विलियम वुण्ट प्रयोगात्मक मनोविज्ञान के जनक हैं।

जीन पियाजे विकासात्मक मनोविज्ञान के प्रतिपादक हैं।

जीन पियाजे संज्ञानात्मक विकास कासिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

विलियम मैक्डूगल मूलप्रवृत्तियोंके सिद्धांत के जन्मदाता हैं।

विलियम मैक्डूगल हार्मिक का सिध्दान्त के प्रतिपादक हैं।

पोंपोलॉजी मनोविज्ञान को मन मस्तिष्क का विज्ञान के प्रतिपादक हैं।

स्किनर क्रिया प्रसूत अनुबंधन का सिध्दान्त के प्रतिपादक हैं।

स्किनर सक्रिय अनुबंधन का सिध्दान्त के प्रतिपादक हैं।

इवान पेट्रोविच पावलव अनुकूलित अनुक्रिया का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

इवान पेट्रोविच पावलव संबंध प्रत्यावर्तन का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

इवान पेट्रोविच पावलव शास्त्रीय अनुबंधन का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

इवान पेट्रोविच पावलव प्रतिस्थापक का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

सी.एल. हल प्रबलन(पुनर्बलन)का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

सी.एल. हल व्यवस्थित व्यवहार का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

सी.एल. हल सबलीकरण का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

सी.एल. हल संपोषक का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

सी.एल. हल चालक/अंतर्नोद(प्रणोद) का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

कोहलर अधिगम का सूक्ष्म सिद्धान्त के प्रतिपादक हैं।

कोहलर, वर्दीमर, कोफ्का सूझ या अन्तर्दृष्टि का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

कोहलर, वर्दीमर, कोफ्का गेस्टाल्टवाद सम्प्रदाय के जनक हैं।

लेविन क्षेत्रीय सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

लेविन तलरूप का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

लेविन समूह गतिशीलता सम्प्रत्यय के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

गुथरी सामीप्य संबंधवाद का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

टॉलमैन साईन(चिह्न) का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

टॉलमैन सम्भावना सिद्धांत के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

डेविड आसुबेल अग्रिम संगठक प्रतिमान के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

व्हार्फ भाषायी सापेक्षता प्राक्कल्पना के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

जोहन बी.वाटसन मनोविज्ञान के व्यवहारवादीसम्प्रदाय के जनक के प्रतिपादक हैं।

क्लार्क अधिगम या व्यव्हार सिद्धांत के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

अल्बर्ट बाण्डूरा सामाजिक अधिगमसिद्धांत के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

स्टेनले हॉल पुनरावृत्ति का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

गेने अधिगम सोपानकी के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

एरिक्सन विकास के सामाजिक प्रवर्तक के प्रतिपादक हैं।

जान ड्यूवी प्रोजेक्ट प्रणाली से करके सीखना का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

एविग हास अधिगम मनोविज्ञानका जनक के प्रतिपादक हैं।

जेरोम ब्रूनर अधिगम अवस्थाओं के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

जेरोम ब्रूनर संरचनात्मक अधिगम का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

सी.एच. जड सामान्यीकरण का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

वॉल्फ शक्तिमनोविज्ञान का जनक के प्रतिपादक हैं।

बगले अधिगम अंतरण का मूल्यों के अभिज्ञान का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

चोमस्की भाषा विकास का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

मैस्लो (मास्लो) माँग-पूर्ति(आवश्यकता पदानुक्रम) का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

मैस्लो (मास्लो) स्व-यथार्थीकरण अभिप्रेरणा का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

मैस्लो (मास्लो) आत्मज्ञान का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

डेविड सी. मेक्लिएंड उपलब्धि अभिप्रेरणा का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

बोल्स व काफमैन प्रोत्साहन का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

आलपोर्ट शील गुण(विशेषक) सिद्धांत के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

हेनरी मुरे व्यक्तित्व मापन का माँग का सिद्धांत के प्रतिपादक हैं।

मोर्गन व मुरे कथानक बोध परीक्षणविधि के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

मोर्गन व मुरे प्रासंगिक अन्तर्बोध परीक्षण (T.A.T.) विधि के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

लियोपोल्ड बैलक बाल -अन्तर्बोध परीक्षण (C.A.T.) विधि के प्रतिपादक के प्रतिपादक हैं।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सामान्य ज्ञान 62 (General Knowledge)

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सौजन्यः श्री रवि यादव Mo. +91 9728720725

हिन्दी में सामान्य ज्ञान (Samanya Gyan in Hindi)

आज के पोस्ट का विषय है स्थानों के उपनाम सामान्य ज्ञान (Nicknames of Places General Knowledge)

पेश है हिन्दी में स्थानों के उपनाम से संबंधित सामान्य ज्ञान (Nicknames of Places General Knowledge in Hindi) के बारे में जानकारी।

Nicknames of Places General Knowledge

उपनाम (Nickname)स्थान (Place)
स्वर्ण नगरीअमृतसर
भारत का मैनचेस्टरअहमदाबाद
सात द्वीपों का नगरमुम्बई
बंगाल का शोकदामोदर नदी
बिहार का शोककोसी नदी
अरब सागर की रानीकोच्चि
अंतरिक्ष नगरीबेंगलुरु
भारत का सिलिकॉन वैलीबेंगलुरु
भारत का इलेक्ट्रॉनि नगरबेंगलुरु
गुलाबी नगरजयपुर
भारत का प्रवेश द्वारमुंबई
जुड़वाँ नगरहैदराबाद-सिकंदराबाद
त्यौहारों का शहरमदुरै
डेक्कन क्वीनपुणे
महलों का शहरकोलकाता
वृद्ध गंगागोदावरी
एशिया का अंडों का कटोराआंध्र प्रदेश
सोया क्षेत्रमध्य प्रदेश
दक्षिण का मैनचेस्टरकयम्बटूर
नवाबों का शहरलखनऊ
पूर्व का वेनिसकोच्चि
पर्वतों की रानीमसूरी
पवित्र नदीगंगा
भारत का हॉलीवुडमुंबई
किलों का शहरकोलकाता
झीलों का नगरश्रीनगर
भारत की इस्पात नगरीजमशेदपुर (टाटानगर)
मंदिरों का नगरवाराणसी
उत्तर का मैनचेस्टरकानपुर
रैलियों का नगरनई दिल्ली
भारत का स्वर्गजम्मू व कश्मीर
भारत का बोस्टनअहमदाबाद
मसालों का बगीचाकेरल
भारत का स्विटजरलैंडकाश्मीर
भारत का पिट्सबर्गजमशेदपुर
ईश्वर का निवास स्थानप्रयाग
पाँच नदियों की भूमिपंजाब
बुनकरों का शहरपानीपत
डायमंड हार्बरकोलकाता
स्वर्ण मंदिर का शहरअमृतसर
फलोद्यानों का स्वर्गसिक्किम
पहाड़ी की मल्लिकानेतरहाट
भारत का डेट्राइटपीथमपुर
पूर्व का पेरिसजयपुर
सॉल्ट सिटीगुजरात
मलय का देशकर्नाटक
काली नदीशारदा
ब्लू माउंटेननीलगिरी पहाड़ियाँ
राजस्थान का हृदयअजमेर
सुरमा नगरीबरेली
खुशबुओं का शहरकन्नौज
काशी की बहनगाजीपुर
लीची नगरदेहरादून
राजस्थान का शिमलामाउंट आबू
कर्नाटक का रत्नमैसूर
अरब सागर की रानीकोच्चि
भारत का स्विट्जरलैंडकश्मीर
पूर्व का स्कॉटलैंडमेघालय
उत्तर भारत का मैनचेस्टरकानपुर
मंदिरों और घाटों का नगरवाराणसी
धान का कटोराछत्तीसगढ़
भारत का पेरिसजयपुर
मेघों का घरमेघालय
बगीचों का शहरकपूरथला
पृथ्वी का स्वर्गश्रीनगर
पहाड़ों की नगरीडूंगरपुर
भारत का उद्यानबेंगलुरू
भारत का बोस्टनअहमदाबाद
सूती वस्त्रों की राजधानीमुंबई
छत्तीसगढ का शिमलामैनपाट
Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सामान्य ज्ञान 60 (General Knowledge)

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सामान्य ज्ञान (General Knowledge)

सौजन्यः श्री रवि यादव Mo. +91 9728720725

हिन्दी में सामान्य ज्ञान (Samanya Gyan in Hindi)

आज के पोस्ट का विषय है विज्ञान सामान्य ज्ञान (Science General Knowledge)

पेश है हिन्दी में विज्ञान से संबंधित सामान्य ज्ञान (Science General Knowledge in Hindi) के बारे में जानकारी।

Science General Knowledge

सबसे हल्की धातु लिथियम है।

सबसे भारी धातु ओसमियम है।

सबसे कठोर धातु प्लेटिनम है।

सबसे कठोर पदार्थ हीरा है।

एन्थ्रासाइट सबसे उत्तम कोयला है।

जल का सबसे शुद्ध रूप वर्षा का जल है।

मीथेन को मार्श गैस कहा जाता है।

हीलियम को नोबेल गैस कहा जाता है।

आमीटर से विधुत धारा मापी जाती है।

पारा का प्रमुख अयस्क सिनेबार है।

जे. एल. बेयर्ड (John Logie Baird) टेलीविजन के अविष्कारक हैं।

टेलर एवं यंग रडार के अविष्कारक हैं।

न्युटन ने गुरूत्वाकर्षण की खोज की थी।

सिरका तथा अचार में एसिटिक अम्ल होता है।

नीबू और नारंगी में साइट्रिक अम्ल होता है।

दूध के खट्टा होने का कारण उसमें उपस्थित लैक्टिक अम्ल है।

मतदाताओं के हाथ में लगाई जाने वाली स्याही सिल्वर नाइट्रेट से बनी होती है।

प्याज और लहसुन में विशिष्ट गंध होने का कारण उसमें उपस्थित पोटैशियम है।

X-किरणों की खोज रोन्ट्जन ने की थी।

स्कूटर का अविष्कार ब्राड शा ने किया था।

रिवाल्वर का अविष्कार कोल्ट ने किया था।

अल्टी मीटर के द्वारा समुद्र की गहराई नापी जाती है।

वाटशन व क्रिक ने डी.एन. ए. संरचना का माडल दिया था।

यूरिया प्रयोगशाला में बनने वाला पहला तत्व है।

टेलिफोन का अविष्कार ग्राहम बेल ने किया था।

पेन्सिलीन की खोज एलेक्जेन्डर फ्लेमिंग ने की थी।

चेचक के टीके की खोज जेनर ने की थी।

अरस्तू को जीव विज्ञान के जन्मदाता माना जाता है।

डाइनामाइट का अविष्कार अल्फ्रेड नोबल ने किया था।

रेफ्लेसीया विश्व का सबसे बडा पुष्प है।

विटामिन B12 में कोबाल्ट होता है।

विटामिन B12 से एनिमिया ठीक हो जाता है।

विटामिनA की कमी से रतौधी रोग होता है।

विटामिन B की कमी से बेरी बेरी रोग होता है।

रेबिज के टीके की खोज लुई पाश्चर ने की थी।

हैजा व टीबी के जीवाणुओं की खोज राबर्ट कोच ने की थी।

रक्त में लौह तत्व पाया जाता है।

एक्स किरणे विधुत चुम्बकीय किरणें हैं।

पानी में हवा का बुलबला अवतल लेंस का कार्य करता है।

किसी वस्तु का भार विषुवत रेखा पर न्यूनतम होता है।

इन्द्रधनुष बनने का कारण प्रकाश का अपवर्तन है।

मानव त्वचा का रंग मेनालिन के कारण बनता है।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

इतिहास सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर – 4 (History General Knowledge Questions Answers)

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सामान्य ज्ञान (General Knowledge) के अंतर्गत प्रायः इतिहास (History) से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं क्योंकि इतिहास सामान्य ज्ञान (History General Knowledge) एक महत्वपूर्ण विषय है। अतः प्रस्तुत है –

इतिहास सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर (History General Knowledge Questions Answers)

आज के पोस्ट का विषय है जैन धर्म (Jainism)

जैन धर्म सामान्य ज्ञान प्रश्न उत्तर (Jainism General Knowledge Questions Answers)

जैन धर्म (Jainism) में 24 तीर्थंकर हुए हैं।

जैन धर्म के पहले तीर्थंकर ऋषभ देव हैं।

जैन धर्म के तेइसवें तीर्थंकर पार्श्वनाथ हैं।

पार्श्वनाथ को 100 वर्ष की अवस्था में सम्मेद पर्वत पर निर्वाण की प्राप्ति हुई थी।

पार्श्वनाथ द्वारा प्रतिपादित चार महाव्रत हैं – सत्य, अहिंसा, अपरिग्रह और अस्तेय

पार्श्वनाथ के अनुयायियों को निर्ग्रन्थ कहा जाता है।

जैन धर्म के चौबीसवें तीर्थंकर महावीर स्वामी हैं।

महावीर का जन्म वैशाली के समीप कुण्डग्राम में ई.पू. 540 में हुआ था।

महावीर के पिता ज्ञातक कुल के प्रधान सिद्धार्थ थे।

महावीर की माता लिच्छवि की राजकुमारी त्रिशला थीं।

महावीर की पत्नी का नाम यशोदा था।

महावीरी की पुत्री प्रियदर्शना का विवाह जामालि नामक क्षत्रिय से हुआ था।

महावीर के दामाद जामालि उनके प्रथम शिष्य थे।

महावीर ने 30 वर्ष की आयु में गृहत्याग किया था।

12 वर्ष की कठोर तपस्या तथा साधना के पश्चात 42 की आयु में महावीर को जुम्भिकग्राम के निकट ऋजुपालिका नदी के तट पर एक साल वृक्ष के नीचे कैवल्य प्राप्त हुआ था।

केवलिन, जिन, अर्ह और निर्ग्रन्थ आदि महावीर की उपाधियाँ हैं।

महावीर का स्वर्गवास 72 वर्ष की उम्र में ई.पू. 538 में पावा में हुआ था।

बौद्ध ग्रंथों में महावीर को निगण्ठ-नाथपुत्त कहा गया है।

जैन धर्म के अनुसार संसार का निर्माण पुद्गल, धर्म, अधर्म, आकाश और काल से हुआ है।

जैन धर्म में देवताओं के अस्तित्व को स्वीकारा तो गया है किन्तु उनका स्थान जिन से नीचे रखा गया है।

जैन धर्म ईश्वर को सृष्टिकर्ता नहीं मानता।

जैन धर्म पुनर्जन्म में विश्वास करता है।

जैन धर्म में अहिंसा का विशेष महत्व है।

काल बीतने पर जैन धर्म दो समुदायों – तेरापंथी (श्वेताम्बर) और समैया (दिगम्बर) – में विभाजित हो गया।

जैन धर्म के चौबीस तीर्थंकर निम्नानुसार हैं –

ॠषभनाथ
अजितनाथ
सम्भवनाथ
अभिनन्दननाथ
सुमतिनाथ
पद्मप्रभ
सुपार्श्वनाथ
चन्द्रप्रभ
पुष्पदन्त
शीतलनाथ
श्रेयांसनाथ
वासुपूज्य
विमलनाथ
अनन्तनाथ
धर्मनाथ
शान्तिनाथ
कुन्थुनाथ
अरनाथ
मल्लिनाथ
मुनिसुब्रनाथ
नमिनाथ
नेमिनाथ तीर्थंकर
पार्श्वनाथ तीर्थंकर
वर्धमान महावीर

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सामान्य ज्ञान 59 (General Knowledge)

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सौजन्यः श्री रवि यादव, Mo. +91 9728720725

हिन्दी में सामान्य ज्ञान (Samanya Gyan in Hindi)

आज के पोस्ट का विषय है इतिहास सामान्य ज्ञान (History General Knowledge)

पेश है हिन्दी में इतिहास से संबंधित सामान्य ज्ञान (History General Knowledge in Hindi) के बारे में जानकारी।

History General Knowledge

चंद्रगुप्त मौर्य ने पाटलिपुत्र को अपनी राजधानी बनाया था।

पाटलिपुत्र में चंद्रगुप्त का महल लकड़ी का बना था।

रुद्रदमन के जूनागढ़ अभिलेख से यह सिद्ध होता है कि चंद्रगुप्त का प्रभाव पश्चिम भारत तक फैला हुआ था।

भारत में सबसे पहले भारतीय साम्राज्य चंद्रगुप्त मौर्य ने स्थापित किया।

भाब्रू स्तंभ में अशोक ने स्वयं को मगध का सम्राट बताया है।

उत्तराखंड में अशोक का शिलालेख कालसी में है।

अशोक के शिलालेखों को पढ़ने वाला प्रथम अंग्रेज जेम्स प्रिंसेप था।

कलिंग युद्ध की विजय तथा क्षत्रियों का वर्णन 13वें शिलालेख में (XIII) में है।

सम्राट अशोक जनता के संपर्क में रहता था।

मुद्राराक्षस में चंद्रगुप्त मौर्य के लिए ‘वृषल’ शब्द का प्रयोग किया गया है।

मास्की राज्यादेश में अशोक के व्यक्तिगत नाम का उल्लेख मिलता है।

श्रीनगर की स्थापना किस अशोक ने की थी।

अर्थशास्त्र में में शुद्रों के लिए ‘आर्य’ शब्द का प्रयोग हुआ है।

मेगास्थनीज ने पाटलिपुत्र को ‘पोलिब्रोथा’ कहा था।

मौर्य काल में सड़क निर्माण अधिकारी को ‘एग्रनोमाई’ कहा जाता था।

अशोक के विषय में जानकारी का महत्पूर्ण स्त्रोत शिलालेख हैं।

मेगास्थनीज ने कहा था कि ‘भारतीय लिखने की कला नहीं जानते’।

बिंदुसार की मृत्यु के समय अशोक उज्जैन प्रांत का गवर्नर था।

अशोक ने अपने पुत्र व पुत्री को बौद्ध धर्म के प्रचार व प्रसार हेतु श्रीलंका भेजा था।

कौटिल्य द्वारा रचित अर्थशास्त्र 15 अभिकरणों में विभाजित है।

अशोक का अभिलेख भारत के अलावा किस अफगानिस्तान भी पाया गया है।

प्रथम पृथक शिलालेख में शिलालेख में अशोक ने घोषणा की, ‘‘सभी मनुष्य मेरे बच्चे है’’।

अशोक के शिलालेख के लिए चुनार से पत्थर लिया जाता था।

मौर्यों का राजकोषीय वर्ष का आरंभ आषाढ़ (जुलाई) में होता था।

जैन ग्रंथ परिशिष्ट पर्व में में चंद्रगुप्त मौर्य के जैन धर्म अपनाने का उल्लेख मिलता है।

चंद्रगुप्त मौर्य का संघर्ष किस यूनानी शासक सेल्यूकस से से हुआ था।

एरियन ने चंद्रगुप्त मौर्य को सैंड्रोकोट्स नाम दिया था।

मुद्राराक्षस में चंद्रगुप्त मौर्य के लिए ‘कुलहीन’ शब्द का प्रयोग हुआ है।

चंद्रगुप्त मौर्य का निधन ई.पू. 297 हुआ था।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सामान्य ज्ञान 59 (General Knowledge)

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सौजन्यः श्री रवि यादव, Mo. +91 9728720725

हिन्दी में सामान्य ज्ञान (Samanya Gyan in Hindi)

आज के पोस्ट का विषय है इतिहास सामान्य ज्ञान (History General Knowledge)

पेश है हिन्दी में इतिहास से संबंधित सामान्य ज्ञान (History General Knowledge in Hindi) के बारे में जानकारी।

History General Knowledge

मौर्य वंश भारत का प्राचीनतम राजवंश है।

मौर्य साम्राज्य की स्थापना किसने की थी।

मौर्य वंश की स्थापना ई.पू. 322 में हुई थी।

कौटिल्य/चाणक्य चंद्रगुप्त मौर्य का प्रधानमंत्री था।

चाणक्य का वास्तविक नाम विष्णु गुप्त था।

चंदगुप्त के शासन के विस्तार में सबसे अधिक सहायता चाणक्य ने की थी।

कौटिल्य का अर्थशास्त्र की तुलना मैकियावेली के ‘प्रिंस’ से की जाती है।

अशोक ने सिंहासन पर अधिकार पाने के लिए अपने बड़े भाई की हत्या की थी।

सम्राट अशोक की प्रभावित करने वाली पत्नी का नाम कारुवाकी था।

बिंदुसार ने विद्रोहियों को कुचलने के लिए अशोक को तक्षशिला भेजा था।

सम्राट अशोक ने अपने शिलालेखों में अपना नाम ‘देवान प्रियादर्शी’ दर्शाया है।

कलिंग का युद्ध ई.पू. 261 में हुआ था।

सम्राट अशोक ने कलिंग के युद्ध में नरसंहार को देखकर बौद्ध धर्म अपना लिया था।

चंद्रगुप्त मौर्य ने अपने अंतिम दिनों में जैनधर्म को अपना लिया था।

मौर्य साम्राज्य में प्रचलित मुद्रा को पण कहा जाता था।

अशोक का उत्तराधिकारी कुणाल था।

मौर्य काल में तक्षशिला शिक्षा का प्रसिद्ध केंद्र था।

यूनान के शासक सेल्यूकस ने मेगास्थनीज को अपना राजदूत चंद्रगुप्त मौर्य के राज दरबार में भारत भेजा था।

चंद्रगुप्त मौर्य ने सेल्यूकस को ई. पू. 305 में पराजित किया था।

मेगस्थनीज लिखित पुस्तक का नाम इंडिका है।

इंडिका में पाटलिपुत्र के प्रशासन का वर्णन है।

विशाखदत्त के ग्रंथ रचित ‘मुद्राराक्षस’ नामक ग्रंथ में चंद्रगुप्त मौर्य के विशिष्ट रूप का वर्णन हुआ है।

अशोक के शिलालेखों की भाषा पाकृत है।

कुणाल ने ने दक्कन पर विजय प्राप्त की थी।

मेगास्थनीज द्वारा अपनी पुस्तक में समाज को पाँच भागों में बाँटा गया था।

‘अर्थशास्त्र’ का संबंध राजनीतिक नीतियों से है।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सामान्य ज्ञान 58 (General Knowledge)

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सौजन्यः श्री रवि यादव, Mo. +91 9728720725

हिन्दी में सामान्य ज्ञान (Samanya Gyan in Hindi)

आज के पोस्ट का विषय है इतिहास सामान्य ज्ञान (History General Knowledge)

पेश है हिन्दी में इतिहास से संबंधित सामान्य ज्ञान (History General Knowledge in Hindi) के बारे में जानकारी।

History General Knowledge

‘तुगलकनामा’ के रचयिता अमीर खुसरो हैं।

अमीर खुसरों ने खड़ी बोली के विकास में अग्रणी भूमिका निभाई थी।

भारत में पोलो खेल का आरंभ तुर्कों के समय में हुआ था।

फिरोजशाह तुगलक दान-दक्षिणा में अधिक विश्वास रखता था तथा उसने ‘दिवान-ए-खैरात’ नामक विभाग की स्थापना की थी।

सितार को को हिंदू-मुस्लिम गान का सर्वश्रेष्ठ यंत्र माना गया है।

संगीत की ‘हिन्दुस्तानी’ शैली के जन्मदाता अमीर खुसरो हैं।

संगीत की ‘कव्वाली’ शैली के जन्मदाता अमीर खुसरो है।

अनुकूल परिस्थितियाँ होने पर भी गुलाम वंश के शासक मंगोल आक्रमण का भय होने के कारण अपने साम्राज्य का विस्तार नहीं कर पाये।

अलाउद्दीन खिलजी को द्वितीय सिकंदर अथवा ‘सिकंदर सानी’ कहा जाता है।

‘अढ़ाई दिन का झोपड़ा’ नामक मस्जिद कुतुबुदीन ऐबक ने बनवाया था।

चंगेज खाँ स्वयं को ‘ईश्वर का अभिशाप’ कहता था।

गुलामों के लगल विभाग ‘दीवान-ए-बंदगान’ की स्थापना फिरोज तुगलक के शासन की विशेषता थी।

दिल्ली का वह सुल्तान जिसने भारत में नहरों का जाल बिछाया, कौन था- फिरोजशाह तुगलक

अलाउक मुल्क के कहने पर अलाउद्दीन खिलजी ने सिकंदर के समान विश्व विजय की योजना को ठुकरा दिया था।

अलाउद्दीन खिलजी ने सैनिकों को भू-अनुदान के स्थान पर नगद वेतन देने की प्रथा चलाई थी।

सिकंदर लोदी ने भूमि मापने के पैमाने ‘गज-ए-सिकंदरी’ को प्रचलित किया।

मोहम्मद गोरी ने सिक्कों पर लक्ष्मी देवी की आकृति बनवाई थी।

अमीर खुसरो अलाउद्दीन खिलजी का राजदरबारी कवि था।

मुहम्मद बिन तुगलक ने अपना उपनाम ‘अबुल मजहिद्’ रखा था।

मुहम्मद बिन तुगलक की मृत्यु थट्टा में हुई थी।

रजिया बेगम को मारने में किसका हाथ था।

‘जवाबित’ का संबंध राज्य कानून से है।

अलाउद्दीन के बचपन का नाम अली गुरशप था।

अलाउद्दीन खिलजी बाजार के अंदर घूमकर बाजार का निरीक्षण करता था।

रेहला नामक पुस्तक में मुहम्मद बिन तुगलक के शासन की घटनाओं का वर्णन है।

जलालुद्दीन फिरोज खिलजी सुल्तान बनने से पहले बुलंदशहर का इक्तादार था।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सामान्य ज्ञान 57 (General Knowledge)

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सौजन्यः श्री रवि यादव, Mo. +91 9728720725

हिन्दी में सामान्य ज्ञान (Samanya Gyan in Hindi)

आज के पोस्ट का विषय है इतिहास सामान्य ज्ञान (History General Knowledge)

पेश है हिन्दी में इतिहास से संबंधित सामान्य ज्ञान (History General Knowledge in Hindi) के बारे में जानकारी।

History General Knowledge

मोहम्मद गोरी भारत में जीते हुए प्रदेशों की देशभाल अपने विश्वसनीय जनरल कुतुबुद्दीन ऐबक पर छोड़कर गया था।

भारत में मुस्लिम शासन की नींव मोहम्मद गोरी ने डाली थी।

मोहम्मद गोरी का अंतिम आक्रमण पंजाब के खोखर के विरुद्ध किया था।

भारत में गुलाम वंश की स्थापना कुतुबुद्दीन ऐबक ने सन् 1206 में की थी।

दिल्ली सल्तनत की दरबारी भाषा फारसी थी।

आगरा शहर का निर्माण सिकंदर लोदी ने करावाया था।

कुतुबुद्दीन ऐबक की मृत्यु ‘चौगान’ खेलते समय हुई थी।

कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद का निर्माण कुतुबुद्दीन ऐबक ने करावाया था।

‘कुतुबमीनार’ के निर्माण का आरंभ कुतुबुद्दीन ऐबक ने किया था।

‘कुतुबमीनार’ को इल्तुतमिश ने पूरा करवाया था।

रजिया सुल्तान इल्तुतमिश की पुत्री थी।

सबसे अधिक मगोल अक्रमण अलाउद्दीन खिलजी शासन काल में हुए।

सांकेतिक मुद्रा का चलन मोहम्मद बिन तुगलक ने किया।

मोहम्मद बिन तुगलक को इतिहासकारों ने विरोधों का मिश्रण कहा है।

लोदी वंश का अंतिम शासक इब्राहिम लोदी था।

‘इनाम’ भूमि विद्धान तथा धार्मिक व्यक्ति को दी जाती थी।

दिल्ली की गद्दी पर बैठने वाली पहली महिला शासक रजिया सुल्तान थी।

अलाउद्दीन खिलजी ने दक्षिणी भारत को पराजित करने का प्रयास किया था।

विदेशी यात्री इब्नबतूता मोरक्को से आया था।

इब्नबतूता मोहम्मद बिन तुगलक के शासन में भारत आया था।

मुबारकशाह खिलजी ने स्वयं को ‘खलीफा’ घोषित किया था।

खिलजी वंश की स्थापना जलालुद्दीन फिरोज खिलजी ने 13 जून, 1290 को की थी।

भारतीय इतिहास में बाजार/मूल्य नियंत्रण पद्धति की शुरुआत अलाउद्दीन खिलजी के द्वारा की गई थी।

अलबरुनी का पूरा नाम अबूरैहान मुहम्मद था।

किताब उल-हिंद को ‘11 वीं सदी के भारत का दर्पण’ किसे कहा जाता है।

दिल्ली सल्तन के अलाउद्दीन खिलजी ने स्थायी सेना बनाई थी।

सिकंदर लोदी ‘गुलऊखी’ के उपनाम से कविताएँ लिखता था।

कुतुबमीनार का मुख्य द्वार अलाई दरवाजा है।

अलाउद्दीन खिलजी ने जलालुउद्दीन फिरोज खिलजी की हत्या की थी।

अलाउद्दीन के आक्रमण के समय देवगिरि का शासक रामचंद्र देव था।

सल्तनत काल में भू-राजस्व का सर्वोच्च ग्रामीण अधिकारी मलिक होता था।

तैमूर लंग ने भारत पर आक्रमण सन् 1398 में किया था।

बलबन के दरबार में सबसे अधिक गुलाम थे।

फिरोजशाह तुगलक ने बेरोजगारों को रोजगार दिया था।

मोहम्मद बिन तुगलक को भारत के इतिहास में ‘बुद्धिमान पागल’ शासक कहा जाता है।

मोहम्मद बिन तुगलक अपनी राजधानी दिल्ली से दौलताबाद ले गया था।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सामान्य ज्ञान 56 (General Knowledge)

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सौजन्यः श्री रवि यादव, Mo. +91 9728720725

हिन्दी में सामान्य ज्ञान (Samanya Gyan in Hindi)

आज के पोस्ट का विषय है पक्षी सामान्य ज्ञान (Birds General Knowledge)

पेश है हिन्दी में पक्षी सामान्य ज्ञान (Birds General Knowledge in Hindi) से सम्बन्धित जानकारी।

Birds General Knowledge

प्रसिद्ध् डॉ. भारतीय पक्षी वैज्ञानिक सलीम अली को ‘बर्ड मैन ऑफ इण्डिया’ (BIRD MAN OF INDIA) के नाम से से जाना जाता है।

डॉ. सलीम अली की जन्म तिथि 12 नवम्बर को राष्ट्रीय पक्षी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

हमिंग बर्ड को ‘प्रकृति का हेलीकाप्टर’ कहा जाता है।

पेंगिवन पक्षी का निवास स्थान अंटार्कटिका (दक्षिणी ध्रुव) हैं।

हरियाणा राज्य ने अपने सभी पर्यटन स्थलों का नामकरण पक्षियों के नाम पर किया है।

राजस्थान के सरिस्का अभयारण्य (अलवर) में हरे कबूतर पाये जाते हैं।

कबूतर को शांति का प्रतीक माना जाता हैं।

खंजन पक्षी अपने सुन्दर एवं चपल नेत्रों के लिए प्रसिद्ध् हैं।

बया पक्षी घोंसला बुनाई कला का आकर्षक नमूना प्रस्तुत करता है।

कीवी पक्षी के पंख नहीं होते।

हमिंग बर्ड विश्व का सबसे छोटा पक्षी है; उसका अंडा भी सबसे छोटा अण्डा होता है।

शुतुरमुर्ग संसार का सबसे बड़ा पक्षी है; उसका अंडा भी सबसे बड़ा अण्डा होता है।

कोयल कभी भी अपना घोंसला नहीं बनाती।

कोयल, पपीहा, श्यामा पक्षियों को गाने वाले पक्षी कहा जाता है।

अण्डमान-निकोबार द्वीप समूह को पक्षियों का स्वर्ग कहा जाता है।

बुलबुल को ‘ब्लैकबर्ड’ कहा जाता है।

एशिया महाद्वीप को ‘पक्षियों का महाद्वीप’ माना जाता है।

पक्षी सम्पदा की दृष्टि से सिक्किम भारत का सबसे महत्वपूर्ण राज्य है।

कबूतर को संदेशवाहक के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।

पक्षियों का अध्ययन को आरनिथोलॉजी कहा जाता है।

कबूतर में सामाजिक प्रवृत्ति पायी जाती है।

सरीसृप को पक्षियों का पूर्वज किसे माना जाता है।

चिड़ियों के पूर्वज का पहला जीवाश्म सन् 1861 में प्राप्त हुआ था।

भारतीय उपमहाद्वीप में पक्षियों का विधिवत अध्ययन डॉ. सलीम अली किसने आरम्भ किया था।

पक्षियों के शोध एवं अध्ययन में बाम्बे नेचुरलहिस्ट्री सोसाइटी (BNHS) ने विशेष योगदान दिया है।

‘बर्डस ऑफ इंडिया’ पुस्तक के लेखक जार्डन हैं।

शुतुरमुर्ग, कीवी और ईमू उड़ नहीं सकते।

सारस क्रेन भारत का सबसे लम्बा पक्षी है।

बया, बतासी, दरजिन, फुदकी, आबाबील को कारीगर पक्षी कहा जाता है।

चील, गिह्, उल्लू. कौआ सफाई करने वाले पक्षी हैं।

टिटिहरी सोते समय अपने पैर ऊपर करके सोता है।

बुलबुल, चरखी, मैना संयुक्त भोजी पक्षी हैं।

तोता, मैना, बत्तख, मुर्गा, सारस, मोर, शुतुरमुर्ग घरेलू पक्षी हैं।

कबूतर का वैज्ञानिक नाम कोलम्बालीविया हैं।

पक्षियों के हृदय में 4 वेश्म होते हैं।

शुतुरमुर्ग विश्व का सबसे ऊँचा पक्षी है।

शुतुरमुर्ग और स्वाइन टेल्ड सिवफ्ट सबसे तेज दौड़ने वाला पक्षी हैं।

गिह् विश्व का सबसे अधिक ऊँचाई पर उड़ना वाला पक्षी है, यह 30000 फुट की ऊँचाई तक उड़ सकता है।

गरूर पक्षी स्पेन का राष्ट्रीय प्रतीक है।

अल्बेस्ट्रास सबसे अधिक पंखों के विस्तार वाला पक्षी है।

द. अफ्रीका का कोरी बस्टर्ड उड़ने वाला सबसे भारी पक्षी है।

सारस पक्षी अपने साथी के वियोग में अपने प्राण त्याग देता हैं।

बत्तख ऐसा पक्षी है जो सिर के आगे रहते हुए भी पीछे देख सकता है।

किगेट विश्व का सबसे तेज उड़ने वाला पक्षी है, यह 1 घंटे में 48 कि.मी. तक उड़ सकता है।

शुगर वर्ड पक्षी की पूँछ उसके शरीर के अनुपात में चार गुना अधिक लम्बी होती है।

डार्टर या सर्प पक्षी पानी में अपनी गर्दन ऊपर किये हुए तैरता है।

सहदुल पक्षी, जो कि अब लुप्त हो चुका है, अपनी चोंच में हाथी जैसे जानवरों को भी लेकर उड़ सकता था।

अफ्रीका का कैमालियन पक्षी अपना रंग बदलता है।

वल्वास्टापालिस पराडाक्स पक्षी का आकार चप्पलों जैसा होता है।

नयन्ती स्कृक चिड़िया किसी भी चिड़िया की बोली बोल सकती हैं।

कौए को चोर पक्षी कहा जाता है।

उल्लू को चौकीदार (नाइट वाचमैन) कहा जाता है।

कौवा, चील और गिद्द मुर्दा खाने वाले पक्षी हैं।

उल्लू, बाज शिकारी पक्षी कहलाते हैं।

स्राइक पक्षी अपने शिकार को कांटों में धंसा देता है, इसी कारण से इसे कसाई चिड़िया कहा जाता है।

डायनासौर युग के पक्षी को आर्कियोप्टेरिक्स के नाम से जाना जाता है।

विश्व में पक्षियों की सबसे बड़ी बस्ती दक्षिण अमेरिका के पेरू में है।

सूटी टर्न पक्षी सबसे ज्यादा देर तक लगातार उड़ने वाला पक्षी है, यह 3 से 4 वर्षों तक लगातार उड़ता रह सकता है।

भारत का सबसे बड़ा चिड़ियाघर अलीपुर (कोलकाता) में है।

विश्व का सबसे बड़ा चिड़ियाघर दक्षिण अफ्रीका के क्रूजर पार्क में स्थित हैं।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सामान्य ज्ञान 55 (General Knowledge)

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सौजन्यः श्री रवि यादव

हिन्दी में सामान्य ज्ञान (Samanya Gyan in Hindi)

आज के पोस्ट का विषय है बुनियादी सामान्य ज्ञान (Basic General Knowledge)

बुनियादी सामान्य ज्ञान (Basic General Knowledge in Hindi)

गिनीज रेकॉर्ड के अनुसार टीनी टेड (Teeny Ted) विश्व की सबसे मुद्रित पुस्तक है।

भारत की सबसे ऊंची पर्वत चोटी गॉडविन ऑस्टिन (K2) है।

उत्तराखंड राज्य का सबसे ऊंचा बांध टिहरी बांध है।

कर्नाटक राज्य का कुंचिकल झरना भारत का सबसे ऊँचा झरना है।

बुलंद दरवाजा, फतेहपुर सीकरी भारत का सबसे ऊँचा दरवाजा है।

भारत का सर्वोच्च पुरस्कार भारत रत्न है।

भारत का सर्वोच्च वीरता पुरस्कार परमवीर चक्र है।

सियाचिन ग्लेशियर सबसे ऊँचा युद्धक्षेत्र है।

भारत का सबसे अधिक वर्षा वाला स्थान मौसिनराम, मेघालय है।

लेह, लद्दाख भारत का सबसे ऊँचा हवाई अड्डा है।

भारत का सबसे ऊँचा झील चोलमु झील, सिक्किम है।

कुतुब मीनार, दिल्ली भारत की सबसे ऊँची मीनार है।

उत्तर प्रदेश भारत का सबसे अधिक आबादी वाला राज्य है।

लेह रेडियो स्टेशन भारत का सबसे ऊँचा आकाशवाणी केन्द्र है।

कर्नाटक स्थित जैन संत Gomateswara की प्रतिमा भारत की सबसे ऊँची प्रतिमा है।

वुलर झील, कश्मीर भारत की सबसे बड़ी ताजा पानी की झील है।

श्री रंगनाथस्वामी मंदिर, तमिलनाडु भारत का सबसे बड़ा मंदिर है।

जामा मस्जिद, दिल्ली भारत की सबसे बड़ी मस्जिद है।

से कैथेड्रल, गोवा भारत का सबसे बड़ा चर्च है।

स्वर्ण मंदिर, अमृतसर भारत का सबसे बड़ा गुरुद्वारा है।

तवांग मठ, अरुणाचल प्रदेश भारत का सबसे बड़ा मठ है।

मुंबई, महाराष्ट्र भारत का सबसे अधिक आबादी वाला नगर है।

राष्ट्रपति भवन, दिल्ली भारत का सबसे बड़ी इमारत है।

राष्ट्रीय संग्रहालय, कोलकाता भारत का सबसे बड़ा संग्रहालय है।

श्री षण्मुख नंदा हॉल, मुंबई भारत का सबसे बड़ा सभागार है।

थंगम, मदुरै भारत का सबसे बड़ा सिनेमा थिएटर है।

फरक्का बैराज गंगा भारत का सबसे बड़ा बैराज है।

सुंदरबन डेल्टा, पश्चिम बंगाल भारत का सबसे बड़ा डेल्टा है।

गोल गुम्बज, बीजापुर, कर्नाटक भारत का सबसे बड़ा गुंबद है।

जूलॉजिकल गार्डन, अलीपुर, कोलकाता भारत का सबसे बड़ी चिड़ियाघर है।

प्रगति मैदान परिसर, नई दिल्ली भारत का सबसे बड़ी प्रदर्शनी ग्राउंड है।

थार, राजस्थान भारत का सबसे बड़ा मरुस्थल है।

कैलाश मंदिर, एलोरा, महाराष्ट्र भारत का सबसे बड़ी गुफा मंदिर है।

अमरनाथ गुफा, जम्मू और कश्मीर भारत की सबसे बड़ी गुफा है।

ओबेरॉय शेरटन, मुंबई भारत का सबसे बड़ा होटल है।

क्षेत्र की दृष्टि से सबसे बड़ा राज्य राजस्थान है।

बी जे मेडिकल कॉलेज और सिविल अस्पताल, अहमदाबाद भारत का सबसे बड़ा अस्पताल है।

रामेश्वरम मंदिर गलियारा, तमिलनाडु भारत का सबसे बड़ा गलियारा है।

मुंबई जीपीओ भारत का सबसे बड़ा डाकघर है।

मध्य प्रदेश सबसे अधिक वन क्षेत्र वाला राज्य है।

तिहाड़ – सेंट्रल जेल, दिल्ली भारत की सबसे बड़ी जेल है।

साल्ट लेक स्टेडियम, कोलकाता भारत का सबसे बड़ा स्टेडियम है।

मुंबई पत्तन भारत का सबसे बड़ा बंदरगाह है।

चिल्का झील, ओडिशा भारत की सबसे बड़ी खारे पानी की झील है।

ब्रह्मपुत्र नदी असम भारत का सबसे बड़ा नदी द्वीप है।

बिड़ला प्लेनेटोरियम, कोलकाता भारत का सबसे बड़ा तारा-घर है।

गोविंद सागर, भाखड़ा बांध भारत की सबसे बड़ी मानव निर्मित झील है।

हावड़ा ब्रिज, कोलकाता भारत का सबसे बड़ा ब्रैकट स्पैन ब्रिज है।

राष्ट्रीय पुस्तकालय, कोलकाता भारत का सबसे बड़ा पुस्तकालय है।

क्षेत्र के आधार पर लद्दाख भारत का सबसे बड़ा लोकसभा चुनाव क्षेत्र है।

आबादी के आधार पर बाहरी दिल्ली भारत का सबसे बड़ा लोकसभा चुनाव क्षेत्र है।

यमुना भारत की सबसे लंबी सहायक नदी है।

गुजरात सबसे लम्बा समुद्र तटीय क्षेत्र वाला राज्य है।

जवाहर सुरंग, जम्मू और कश्मीर भारत की सबसे लंबी सुरंग है।

NH7 वाराणसी से कन्याकुमारी तक भारत का सबसे लम्बा राष्ट्रीय राजमार्ग है।

हीराकुंड बांध, ओडिशा भारत का सबसे लम्बा बांध है।

महात्मा गांधी सेतु, पटना भारत का सबसे लम्बा नदी पुल है।

दिल्ली से कोलकाता तक की रेलवे लाइन भारत की सबसे लम्बी इलेक्ट्रिक रेलवे लाइन है।

गोरखपुर रेलवे प्लेटफार्म, उत्तर प्रदेश भारत का सबसे लम्बा रेलवे प्लेटफार्म है।

गंगा भारत की सबसे लंबी नदी है।

बांद्रा-वर्ली सी लिंक, महाराष्ट्र भारत का पानी के ऊपर सबसे लम्बा पुल है।

विवेक एक्सप्रेस भारत की सबसे ज्यादा दूरी तय करने वाली ट्रेन है।

त्रिवेंद्रम राजधानी एक्सप्रेस भारत की सबसे ज्यादा दूरी तक चलने वाली नॉन स्टॉप रेलगाड़ी है।

वेम्बानद रेल ब्रिज, केरल (Vembanad) भारत का सबसे लम्बा रेलवे पुल है।
मरीना बीच, चेन्नई भारत का सबसे लंबा समुद्र तट है।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail