Archives for General Knowledge - Page 43

Rivers of the capitals of countries

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सामान्य ज्ञान (General Knowledge in Hindi)

सामान्य ज्ञान (General Knowledge) के अन्तर्गत् प्रायः पूछा जाता है कि किस देश की राजधानी (Capital of country and river) किस नदी के तट पर बसी हई है। दरअसल ऐसे प्रश्न हमारे भूगोल सामान्य ज्ञान (Geography General Knowledge) को परखने के लिए होते हैं।

नदी तट पर बसी राजधानियाँ (Rivers of the capitals of countries)

देशराजधानीनदी
अफगानिस्तानकाबुलकाबुल नदी
अल्बानियातिरानाTirane नदी
अंडोराएंडोरा ला वेलाGran Valira नदी
आर्मेनियायेरेवानHrazdan नदी
ऑस्ट्रेलियाकैनबराMolonglo नदी
ऑस्ट्रियावियनाडेन्यूब नदी
तिब्बत के स्वायत्त क्षेत्रल्हासाची नदी
बारबाडोसब्रिजटाउनCareenage नदी
बांग्लादेशढाकाबूढ़ी गंगा नदी
बेलारूसमिन्स्कSvislach नदी
बेलीज़Belmopanबेलीज नदी
बेल्जियमब्रसेल्सZenne नदी
भूटानथिम्पूनदी वोंग चूके नदी
बोलीवियाला पाज़Choqueapu नदी
बोस्निया और HerzogoveniaसाराजेवोMiljacka नदी
बोत्सवानागेबोरोनेNotowahe नदी
ब्रुनेईबंदर सेरी बेगावनब्रुनेई नदी
बुल्गारियासोफियाVladaiska नदी
बुरुंडीबुजुम्बुराTanganyika झील
कंबोडियानोम पेन्हमेकांग नदी
कनाडाओटावाओटावा नदी
मध्य अफ्रीकी गणराज्यBanguiउबंगी नदी
चाडN’Djamenaचारी नदी
चीनबीजिंगपीली नदी
चिलीसैंटियागोMapocho नदी
कोलम्बियाबोगोटाबोगोटा नदी
कांगोब्राज़ाविलकांगो नदी
क्रोएशियाज़गरेबसावा नदी
क्यूबाहवानाAlmendares नदी
साइप्रसनिकोसियाPedieos नदी
चेक गणराज्यप्रागVltava नदी
कांगो लोकतांत्रिक गणराज्यकिंशासाकांगो नदी
डोमिनिकाRoseauRoseau नदी
डोमिनिकन गणराज्यसेंटो डोमिंगोOzama नदी
अल साल्वाडोरसान साल्वाडोरAcelhuate नदी
इथियोपियाअदीस अबाबाChankelia नदी
इक्वाडोरक्विटोGuayllabamba नदी
इंग्लैंडलंदनटेम्स नदी
मिस्रकाहिरानील नदी
एस्टोनियाटालिनPirita नदी
फिनलैंडहेलसिंकीवांटा नदी
फ्रांसपेरिससीन नदी
फ्रेंच गुयानारेड चिलीकेयेन नदी
गैबॉनलिब्रेविलKomo नदी
गाम्बियाबांजुलगाम्बिया नदी
जॉर्जियाTblisiकुरा नदी
जर्मनीबर्लिनहोड़ नदी Havel नदी
घानाअकराOdaw नदी
ग्रीसएथेंसKifissos नदी
ग्रीनलैंडNuukNuup Kangerlua Fjord नदी
गिनी बिसाउबिसाउगेबा नदी
गुयानाजॉर्ज टाउनDemerara नदी
होंडुरासTegucigalpaCholuteca नदी
हंगरीबुडापेस्टडेन्यूब नदी
आइसलैंडरेकजाविकEllioaa नदी
भारतदिल्लीयमुना नदी नदी
इंडोनेशियाजकार्ताCiliwung नदी
इराकबगदाददजला नदी
इटलीरोमTiber नदी
जमैकाकिंग्स्टनहोप नदी
जापानटोक्योSumida नदी
जॉर्डनअम्मानZarqa नदी
कज़ाकस्तानअस्तानाIshim नदी
केन्यानैरोबीनैरोबी नदी
किर्गिज़स्तानBishtekचू नदी
लाओसवियनतियानेमेकांग नदी
लातवियारीगाDaugava नदी
लेबनानबेरूतबेरूत नदी
Leichtensteinवादुज़राइन नदी
लेसोथोमासेरुMohokare नदी
लाइबेरियामोन्रोवियाMesurado नदी और नदी सेंट पॉल के संगम पर स्थित है
लीबियात्रिपोलीअबू अली नदी
लिथुआनियाविनियसNeris नदी और Vilnia नदी के संगम पर स्थित है
लक्ज़मबर्गलक्ज़मबर्ग सिटीAlzette नदी और Pretusse नदी के संगम पर स्थित है
मैसेडोनियास्कोप्जेVardar नदी
मेडागास्करAntanarivoIkoro नदी
मलावीLilongweLilongwe नदी
मलेशियाकुआलालंपुरKlamp नदी
मालीबमाकोनाइजर नदी
माल्टावालेटाMarsa क्रीक नदी
मॉरीशसपोर्ट लुईकाली नदी
मेक्सिकोमेक्सिको सिटीCoatzacoalcos नदी
मंगोलियाउलानबातारTuul नदी
मोरक्कोरबातबौ Regreg नदी
मोजाम्बिकमापुटोमापुटो नदी
नेपालकाठमांडूबागमती नदी
नीदरलैंडएम्स्टर्डमAmstel नदी
न्यूजीलैंडवेलिंग्टनहट नदी
निकारागुआमानागुआसैन जुआन नदी
नाइजरनियामेनाइजर नदी
उत्तर कोरियाप्योंगयांगतेदोंग नदी
उत्तरी आयरलैंडबेलफास्टLagan नदी
नॉर्वेओस्लोAkerselva नदी
पनामापनामा सिटीCaloosahatchee नदी
पापुआ न्यू गिनीपोर्ट मोरेस्बीब्राउन नदी
पैराग्वेअसंसियनपैराग्वे नदी
पेरूलीमाRimac नदी
फिलिपींसमनीलाPasig नदी
पोलैंडवॉरसॉविस्तुला नदी
पुर्तगाललिस्बनतेजो नदी
प्यूर्टो रिकोसैन जुआनCondado लैगून और सैन जुआन लैगून के किनारे स्थित है
आयरलैंड गणराज्यडबलिनLiffey नदी
रोमानियाबुखारेस्टDambovita नदी
रूसमास्कोमोस्कवा नदी
रवांडाकिगालीRuganwa नदी
सर्बियाबेल्ग्रेडडेन्यूब नदी
सिएरा लियोनफ्रीटाउनफ्रीटाउन नदी
सिंगापुरसिंगापुरसिंगापुर नदी
स्लोवाकियाब्रातिस्लावाडेन्यूब नदी
स्लोवेनियाLjubljanaLjublanica नदी
स्पेनमैड्रिडManzanares नदी
श्रीलंकाकोलंबोकलानी नदी और बीरा झील के किनारे स्थित है
दक्षिण अफ्रीकाप्रिटोरियाApies नदी
दक्षिण कोरियासियोलहान नदी
दक्षिण सूडानजुबाव्हाइट नील
स्वाजीलैंडमैबाबानेMbabne नदी
स्वीडनस्टॉकहोमNorrstrom नदी
स्विट्जरलैंडबर्नAare नदी
सूडानखार्तूमनील नदी
सूरीनामपारामारिबोसूरीनाम नदी
सीरियादमिश्कBarada नदी
ताइवानताइपेDanshui और नदी Xindian नदी
ताजिकिस्तानदुशांबेदुशांबे नदी
थाईलैंडबैंकॉकचाओ फ्राया नदी
ट्यूनीशियाट्यूनिसट्यूनिस की झील
तुर्कीअंकाराअंकारा नदी
युगांडाकंपालाविक्टोरिया झील नदी
यूक्रेनकीवनीपर नदी
उरुग्वेमोण्टेवीडियोचाँदी नदी (रियो ला प्लाटा)) का मुहाना
यूनाइटेड किंगडमलंदनटेम्स नदी
संयुक्त राज्य अमेरिकावाशिंगटन डी.सीPatomac नदी
उज़्बेकिस्तानताशकन्दताशकन्द नदी
वेनेजुएलाकराकासGuaire नदी
वियतनामहनोईरेड रिव्हर नदी नदी
वेल्सकार्डिफ़Taff नदी और इली नदी
जाम्बियालुसाकाChongwe नदी
जिम्बाब्वेहरारेलिम्पोपो नदी और Zambesi नदी
Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Rajya Sabha – Civics gk in Hindi

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सामान्य ज्ञान (General Knowledge) के प्रश्नों में प्रायः नागरिक शास्त्र सामान्य ज्ञान (Civics General Knowledge) से सम्बन्धित प्रश्न भी पूछे जाते हैं।

राज्य सभा (Rajya Sabha) के विषय में जानकारी भी नागरिक शास्त्र सामान्य ज्ञान (Civics General Knowledge) के अन्तर्गत आता है। इसीलिए हम राज्य सभा (Rajya Sabha) से सम्बन्धित महत्वपूर्ण जानकारी प्रस्तुत कर रहे हैं।

gk in Hindi श्रृंखला में प्रस्तुत है राज्य सभा (Rajya Sabha) से सम्बन्धित महत्वपूर्ण जानकारी।

सन् 1921 में भारत सरकार अधिनियम, 1919 के अन्तर्गत् भारत में पहली बार ‘काउंसिल ऑफ स्टेट्स’ नामक एक दूसरा सदन अस्तित्व में आया।

‘काउंसिल ऑफ स्टेट्स’ का पदेन अध्यक्ष गव्हर्नर जनरल होता था।

स्वतन्त्रता प्राप्ति के पश्चात् संविधान सभा ने सन् 1954 में राज्य सभा (Rajya Sabha) के गठन का निर्णय लिया।

उपरोक्त निर्णय के अनुसार 23 अगस्त 1954 को भारत में राज्य सभा (Rajya Sabha) के गठन की घोषणा की गई।

भारत के उपराष्ट्रपति को राज्य सभा (Rajya Sabha) का पदेन अध्यक्ष बनाया गया।

राज्य सभा (Rajya Sabha) के गठन का उद्देश्य था संघीय व्यवस्था में राज्यों के हितों की रक्षा करना।

राज्य सभा (Rajya Sabha) के सदस्यों की संख्या लोक सभा के सदस्यों से कम रखी गई।

संविधान के अनुच्छेद 80 के अनुसार राज्‍यसभा में सदस्यों की संख्या 250 है।

राज्य सभा के 250 सदस्यों में से 12 सदस्‍य राष्‍ट्रपति द्वारा नामित किये जाते हैं।

शेष 238 सदस्य चौथी अनुसूची में जनसंख्या के आधार पर राज्यों से चुने जाते हैं।

राज्य सभा (Rajya Sabha) के सदस्य का भारत का नागरिक होना अनिवार्य है।

राज्य सभा (Rajya Sabha) की सदस्यता हेतु न्यूनतम आयु 30 वर्ष है, उल्लेखनीय है कि लोक सभा की सदस्यता हेतु न्यूनतम आयु 25 वर्ष है।

जन प्रतिनिधित्व क़ानून की धारा 154 के अनुसार राज्य सभा (Rajya Sabha) सदस्य का कार्यकाल 6 वर्ष का होता है।

प्रत्येक 2 वर्ष में राज्य सभा (Rajya Sabha) के एक तिहाई सदस्‍य सेवानिवृत्त हो जाते हैं, यही कारण है कि राज्‍यसभा कभी भंग नहीं होती।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Important General Knowledge in Hindi – 20

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

gk in Hindi

आपके सामान्य ज्ञान (General Knowledge in Hindi) बढ़ाने के लिए Gyan Sagar gk में प्रस्तुत है महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान (Banking gk in Hindi)!

भारत की पहली बैंक, अवध कामर्शियल बैंक, जिसकी स्थापना सन् 1881 में हुई थी, थी।

उसके बाद सन् 1894 में पंजाब बैंक की स्थापना हुई।

भारतीय रिजर्व बैंक अधिनियम 1934 के अन्तर्गत् 1 अप्रैल 1935 को भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना हुई थी।

भारतीय रिजर्व बैंक का राष्ट्रीयकरण 1 जनवरी 1949 को किया गया।

12 जुलाई 1982 को राष्ट्रीय कृषि एवं विकास बैंक (नाबार्ड) की स्थापना हुई थी।

नाबार्ड भारतीय रिजर्व बैंक के कृषि विभाग, ग्रामीन योजना व ऋण कक्ष, प्रदत्त एवं कृषि पुनर्वित्त तथा विकास निगम का कार्य करता है।

नगरीय गरीबों के लिए स्वरोजगार कार्यक्रम 1 सितम्बर 1986 को प्रारम्भ किया गया था। यह योजना उन समस्त नगरों और कस्बों में लागू है जिनकी जनसंख्या 1981 की जनगणना के अनुसार 10000 से अधिक थी किन्तु वे समन्वित ग्रामीण विकास कार्यक्रम में सम्मिलित नहीं थे।

भारतीय औद्योगिक वित्त निगम की स्थापना 1948 में हुई थी।

भारत की जनता में बचत की प्रवृत्ति को विकसित करने के उद्देश्य से भारतीय जीवन बीमा निगम की स्थापना 1 सितम्बर 1956 को की गई थी।

भारत में सामान्य बीमा उद्योग का राष्ट्रीयकरण 1971 में किया गया था तथा

1972 में भारतीय सामान्य बीमा निगम के नाम से एक सरकारी कम्पनी बना दी गई।

चिकित्सा बीमा योजना ‘मेडिक्लेम’ का आरम्भ 3 नवम्बर 1986 से किया गया था।

विदेश यात्रा पर जाने वाले भारतीय नागरिकों के लिए जीवन बीमा निगम नें 15 अगस्त 1984 को एक समुद्रपारीय चिकित्सा बीमा योजना आरम्भ की थी।

जनसामान्य में कैंसर का पता लगाने एवं रोगियों को उसके इलाज में हुए खर्च वापस दिलाने के उद्देश्य से न्यू इण्डिया एश्योरेंस कम्पनी ने 11 जुलाई 1985 से कैंसर बीमा योजना प्रारम्भ किया।

सन् 1985 के खरीफ मौसम के आरम्भ होने के साथ ही केन्द्रीय कृषि मन्त्रालय ने व्यापक फसल बीमा योजना प्रारम्भ कर दिया था।

1 फरवरी 1964 को भारतीय यूनिट ट्रस्ट अधिनियम 1963 के अन्तर्गत् भारतीय यूनिट ट्रस्ट (UTI) की स्थापना की गई जिसे बाद में दो भागों, UTI-I और UTI-II में विभाजित कर दिया गया।

भारत में प्रतिभूति अनुबन्ध (नियमन) अधिनियम, 1956 के अन्तर्गत मान्यता प्राप्त कुल 21 स्टॉक एक्सचेंज हैं।

भारतीय प्रतिभूति एवं एक्सचेंज बोर्ड का गठन 1988 में हुआ।

सन् 1993 में न्यू बैंक ऑफ इण्डिया का पंजाब नेशनल बैंक में विलय कर दिया गया।

हमारी वेबसाइट Gyan Sagar General Knowledge आपके सामान्य ज्ञान (gk in Hindi) में वृद्धि हेतु समर्पित है। आशा है कि आपको यह जानकारी पसन्द आई होगी।

यदि आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो शेयर करना ना भूलें।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Important General Knowledge in Hindi – 19

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

gk in Hindi

आपके सामान्य ज्ञान (General Knowledge in Hindi) बढ़ाने के लिए Gyan Sagar gk में प्रस्तुत है महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान (gk in Hindi)!

एककोषीय जीव की खोज सबसे पहले एंटनी ल्यूनहॉक ने की।

कॉनरेड जेड लारेंट्ज ने सिद्ध किया कि मछली अपने इलाके की पहचान के लिए ‘वार पेंट’ लगाती है।

एस. चन्द्रशेखर की कृष्ण विवर (ब्लैक होल) की उपस्थिति के बारे में की गई भविष्यवाणी लगभग सही थी।

प्रथम हैंग-ग्लाइडर पायलट का नाम ऑटो लिलियनथल था।

धरती के गर्भ से तेल निकालने वाला पहला व्यक्ति एडविन ड्रेक था।

परखनली शिशु पैदा करने की तकनीक सबसे पहले रॉबर्ट एडवर्ड्स और पैट्रिक स्टेप्टो ने विकसित किया।

होमो इरेक्टस (नर वानर) के जीवाश्म की खोज सबसे पहले यूजीन डुबोइस ने की।

माना जाता है कि विश्व में पहली बार खगोलीय वेधशालाओं की श्रृंखला जयसिंह ने बनवाई थी।

केमोथेरेपी याने कि रसायनों की सहायता से बीमारियों का इलाज करने के विज्ञान का प्रतिपादक पॉल एरलिच हैं।

भारत में भू-विज्ञान का जनक डी.एन. वाडिया को माना जाता है।

‘सल्फा ड्रग्स’ के खोजकर्ता गेरहार्ड डोमैक हैं।

‘एनेस्थिया’, जिसका प्रयोग शल्य चिकित्सा के समय रोगी को बेहोश करने के लिए किया जाता है, शब्द की रचना निबन्धकार एवं कवि वेंडेल होम्स ने की थी।

लाइनस पॉलिंग ने कहा है कि विटामिन ‘सी’ के सेवन से साधारण सर्दी-खाँसी से बचा जा सकता है।

जी.एन. रामचन्द्रन ने कोलेजेन की संरचना पर गहन शोध किया था।

पृथ्वी या अन्तरिक्ष दोनों ही जगह गतिशील वस्तुओं के वेग निर्धारण के लए जिस प्रभाव का प्रयोग किया जाता है, वह वैज्ञानिक क्रिश्चियन डॉप्लर के नाम से है।

पृथ्वी के चारों ओर संचार उपग्रहों को लगाने में जोसेफ लैंग्रेंज की गणितीय खोज का इस्तेमाल होता है।

बीमारियों के रोगाणु सिद्धान्त की रचना लुइस पाश्चर ने की।

अल्फ्रेड वेगेनर ने महाद्वीपीय ड्रिफ्ट, अर्थात् भूखण्ड को एक स्थान से दूसरे स्थान तक बहाकर ले जाना, का सिद्धान्त प्रस्तुत किया। इस सिद्धान्त के अनुसार सभी महाद्वीप समुद्र में नाव की तरह तैर रहे हैं।

मनोविज्ञान में ‘सामूहिक चेतना’ शब्द की परिकल्पना कार्ल जुंग ने की।

वर्नर हेसेनबर्ग ने यह सिद्धान्त दिया कि सू्क्ष्म स्तर पर किसी पदार्थ के विभिन्न पहलुओं के अवलोकन में हमेशा अनिश्चितता रहेगी।

हमारी वेबसाइट Gyan Sagar General Knowledge आपके सामान्य ज्ञान (gk in Hindi) में वृद्धि हेतु समर्पित है। आशा है कि आपको यह जानकारी पसन्द आई होगी।

यदि आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो शेयर करना ना भूलें।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

History gk in Hindi – 13

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

History GK in Hindi

History gk in Hindi

इतिहास के पन्नों से (History General Knowledge in Hindi)

मौर्य साम्राज्य चार प्रान्तों में विभाजित था – उत्तरापथ, अवन्ति, मध्यदेश या प्राची और दक्षिणापथ।

उत्तरापथ की राजधानी तक्षशिला थी।

अवन्ति की राजधानी उज्जयिनी थी।

मध्यदेशया प्राची की राजधानी पाटलिपुत्र थी।

दक्षिणापथ की राजधानी सुवर्णगिरि थी।

चाणक्य की सहायता से चन्द्रगु्प्त मौर्य ने भारत में मौर्यवंश की नींव रखी।

चाणक्य का दूसरा नाम विष्णुगुप्त था।

संस्कृत नाटक ‘मुद्राराक्षस’ के रचनाकार विशाखदत्त हैं।

चन्द्रगुप्त मौर्य प्राचीन भारत के प्रसिद्ध शासक थे, जिन्होंने अपने जीवन के अन्तिम दिनों में जैन धर्म को स्वीकारा था।

संस्कृत नाटक ‘सौन्दरानन्द’ के रचनाकार अश्वघोष हैं।

बिन्दुसार ने विद्रोहियों को समाप्त करने के लिए अशोक को तक्षशिला भेजा।

साँची के स्तूप का निर्माण अशोक ने करवाया था।

अशोक के शिलालेखों को सर्वप्रथम जेम्स प्रिन्सेप ने पढ़ा था।

भारतीयों के लिए महान सिल्क मार्ग कनिष्क ने शुरू कराया था।

भारत का प्रथम महान साम्राज्य मौर्य साम्राज्य था।

सेल्यूकस ने मेगस्थनीज को अपने राजदूत के रूप में चन्द्रगुप्त मौर्य के दरबार में भेजा था।

कौटिल्य के अर्थशास्त्र में राजा के अधिकार एवं कर्तव्य सम्बन्धी सिद्धान्तों की व्यवस्था मिलती है।

श्रीलंका में बौद्ध धर्म के प्रचार के लिए अशोक ने महेन्द्र को भेजा था।

अन्तिम मौर्य सम्राट वृहद्रथ था, जिसकी हत्या उसके मन्त्री ने कर दी थी।

मिस्र का राजदूत अशोक के राजदरबार में आया था।

डायमेकस बिन्दुसार के दरबार में आने वाला ग्रीक राजदूत था।

सारनाथ स्तम्भ के शीर्ष में सिंह के बीच में एक चक्र है, यह चक्र धर्म का सूचक है।

मौर्यकाल में जनसाधारण की भाषापाली थी।

ई.पू. 305 में चन्द्रगुप्त मौर्य ने सेल्यूकस को पराजित किया था।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Democracy – gk in Hindi

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

लोकतन्त्र (Democracy)

gk in Hindi में प्रस्तुत है लोकतन्त्र (Democracy) के विषय में महत्वपूर्ण जानकारी!

लोकतन्त्र (Democracy) दो शब्दों ‘लोक’ और ‘तन्त्र’ से मिलकर बना है। लोक का अर्थ होता है जनता अर्थात् जन या लोग, और तन्त्र का अर्थ होता है शासन।

लोकतन्त्र को अंग्रेजी में Democracy कहा जाता है। Democracy भी यूनानी भाषा के दो शब्दों डेमॉस (Demos), जिसका अर्थ जनता होता है, और क्रेशिया (Cratia), जिसका अर्थ शक्ति होता है, से मिलकर बना है।

स्पष्ट है कि लोकतन्त्र या Democracy का अर्थ है ‘जनता का शासन’ या ‘जनता की शक्ति’।

अतः कहा जा सकता है कि लोकतन्त्रात्मक शासन प्रणाली में शासन की सम्पूर्ण शक्ति जनता में निहित होती है। लोकतन्त्र को प्रजातन्त्र या जनतन्त्र भी कहा जाता है।

अब्राहम लिंकन ने लोकतन्त्र (Democracy) को “जनता का, जनता के लिए, जनता द्वारा शासन” बताया है।

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने लोकतन्त्र की परिभाषा इस प्रकार दी है – “सही अर्थ में लोकतन्त्र समाज का स्वशासन है। सबसे कम शासित होना, सबसे अच्छे ढंग से शासित होना है।”

डॉ. हर्न शॉ ने कहा है – “राज्य के प्रकार के रूप में लोकतन्त्र शासन की ही एक विधि नहीं है, अपितु सरकार की नियुक्ति करने, उस पर नियन्त्रण रखने तथा उसे अपदस्थ करने की विधि है।”

डायसी के अनुसार, “लोकतन्त्र शासन का वह तरीका है जिसमें शासक समुदाय सम्पूर्ण राष्ट्र का अपेक्षकृत एक बड़ा भाग है।”

कहा जाये तो लोकतन्त्रात्मक शासन एक ऐसी शासन-व्यवस्था है, जिसका उद्देश्य सामाजिक, आर्थिक, नैतिक एवं राजनीतिक जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में अधिकाधिक समानता की स्थिति को प्राप्त करना है।

लोकतन्त्रात्मक शासन प्रणाली में जनता का स्थान सर्वोच्च होता है और शासन की सर्वोच्च शक्ति जन-साधारण में सन्निहित होती है। प्रत्यक्ष रूप से या अपने प्रतिनिधियों के द्वारा जनता शासन में भाग लेती है।

लोकतन्त्र के दो प्रकार हैं – पहला प्रत्यक्ष लोकतन्त्र और दूसरा अप्रत्यक्ष लोकतन्त्र।

प्रत्यक्ष लोकतन्त्र – जब सम्पूर्ण जनता स्वयं शासन का संचालन करती है तो उसे प्रत्यक्ष लोकतन्त्र कहा जाता है। प्रत्यक्ष लोकतन्त्र छोटे राज्यों के लिए उपयुक्त होता है। स्विटजरलैण्ड के कुछ कैण्टनों (राज्यों) में सभी नागरिक एकत्र होकर शासन सम्बन्धी कार्य करते हैं, अतः वहाँ पर प्रत्यक्ष लोकतन्त्र है।

अप्रत्यक्ष लोकतन्त्र – जब जनता अपने प्रतिनिधियों के माध्यम से शासन का संचालन करती है तो अप्रत्यक्ष लोकतन्त्र होता है। बड़े आकार वाले तथा अधिक जनसंख्या वाले देशों में अप्रत्यक्ष लोकतन्त्र ही उपयुक्त होता है क्योंकि वहाँ प्रत्यक्ष लोकतन्त्र सम्भव नहीं होता। हमारे देश भारत में भी अप्रत्यक्ष लोकतन्त्र ही है।

लोकतन्त्र (Democracy) के गुण –

  • लोकतान्त्रिक शासन जनता के प्रति उत्तरदायी होता है।
  • लोकतन्त्र चुनाव में जनता की सहभागिता के कारण सार्वजनिक शिक्षण का कार्य करता है।
  • लोकतान्त्रिक शासन में जनकल्याण की भावना समाहित होती है।
  • निर्वाचन, नियन्त्रण तथा उत्तरदायित्व की लोकप्रिय व्यवस्था के कारण लोकतान्त्रिक शासन व्यवस्था में सर्वाधिक कार्यकुशल शासन होता है।
  • लोकतान्त्रिक शासन में जनता का नैतिक उत्थान होता है।
  • लोकतन्त्र से लोगों में देशभक्ति की भावना प्रबल होती है।
  • लोकतन्त्र जनता की समानता की भावना पर आधारित होता है।
  • जनता को इस शासन व्यवस्था में स्वतन्त्रता प्राप्त होती है।
  • लोकतन्त्र से नागरिकों में सामाजिक गुणों का विकास होता है।
  • लोकतन्त्रिक शासन में क्रान्ति की सम्भावना कम होती है।

लोकतन्त्र (Democracy) के दोष –

  • लोकतन्त्र में योग्यता की अपेक्षा संख्या बल पर अधिक बल दिया जाता है।
  • लोकतन्त्र में सार्वजनिक धन व समय का अपव्यय होता है।
  • लोकतन्त्रिक व्यवस्था में चुनाव खर्चीला होने के कारण साधन-सम्पन्न लोगों का ही प्रतिनिधत्व हो पाता है, जिसके कारण शासन व्यवस्था भ्रष्टाचार की ओर अग्रसर हो जाती है।
  • दलीय व्यवस्था होने के कारण लोकतन्त्र में राष्ट्रीय हित गौण हो जाते हैं।
  • लोकतन्त्र युद्ध एवं संकटकाल में कमजोर हो जाता है।
  • दलीय व्यस्था में स्पष्ट बहुमत न होने पर अस्थिर सरकारों का गठन हो जाता है।
  • निर्वाचन में जनता की अरुचि के कारण सभी वर्गों का प्रतिनिधित्व नहीं हो पाता है।
  • लोकतन्त्र में स्वार्थी एवं पथभ्रष्ट लोगों के निर्वाचित हो जाने से निर्बल और उपेक्षित लगने लगता है।
  • सिद्धान्त रूप में लोकतन्त्र अच्छा माना जाता है किन्तु व्यवहार में ऐसा सम्भव नहीं है।
Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Important General Knowledge in Hindi – 18

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

gk in Hindi

आपके सामान्य ज्ञान (General Knowledge in Hindi) बढ़ाने के लिए Gyan Sagar gk में प्रस्तुत है महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान (gk in Hindi)!

gk in Hindi

ए.एच. बेक्वेरेल ने सर्वप्रथम रेडियो सक्रियता की खोज की।

पृथ्वी के चारों ओर एक विद्युत आवेशित परत है जिसे ‘आयनमण्डल’ कहा जाता है। यह रेडियो संचार प्रणाली को सम्भव बनाता है।

शुक्र ग्रह के वातावरण का अवलोकन सर्वप्रथम मीखाइल लोमोनोसोव ने किया।

पहला इंटेलिजेंट कम्प्यूटर एलिजा था।

पैडल चलित पहले हवाई जहाज का डिजाइन और निर्माण पॉल मैकक्रिडी ने किया।

प्रथम सम्पूर्ण सिंथेटिक फाइबर नाइलॉन है।

अत्यधिक ऊर्जा प्राप्त करने के लिए विद्युत कणों को त्वरित करने वाली प्रथम साइक्लोट्रान मशीन का निर्माण ई.ओ. लॉरेंस ने किया।

साइबरनेटिक्स का जनक नॉरबर्ट वीनर को माना जाता है।

जे-रिसेप्टर फेफड़े के अन्दर एक स्नायु केन्द्र है, जिसकी वजह से साँस की बीमारी होती है। इस जे-रिसेप्टर की खोज सर्वप्रथम अवतार सिंह पेंटल ने की।

आयनीकरण के फॉर्मूले, जो खगोल भौतिकी में महत्वपूर्ण खोजों में एक मानी जाती है, की खोज सर्वप्रथम एम.एन. साहा ने की।

भौतिकविद् फ्रेडरिक जूलियट क्यूरी ने कृत्रिम रेडियो सक्रियता की खोज की।
रेडेयो खगोलशास्त्र की नींव कार्ल जांस्की ने डाली।

एडविन पी. हबल वैज्ञानिक के नाम पर एक स्पेस टेलिस्कोप का नाम रखा गया।

‘भूरे बौने’ (ब्राउन ड्वापर्स) का विचार शिवकुमार ने दिया। यह ग्रह तारों के बीच विकास के दौर में मिलने वाली एक वस्तु है।

नाभिकीय विलयन के द्वारा तारे ऊर्जा उत्पन्न करते हैं। इस सिद्धान्त को सबसे पहले हान्स बेथे ने प्रस्तुत किया।

हमारी वेबसाइट Gyan Sagar General Knowledge आपके सामान्य ज्ञान (gk in Hindi) में वृद्धि हेतु समर्पित है। आशा है कि आपको यह जानकारी पसन्द आई होगी।

यदि आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो शेयर करना ना भूलें।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Indian Constitution 4 – gk in Hindi

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

gk in Hindi

भारतीय संविधान (Indian Constitution) के विषय में जानकारी रखना सामान्य ज्ञान (gk in Hindi) का महत्वपूर्ण अंग है।

अतः Gyan Sagar gk में प्रस्तुत है भारतीय संविधान (Indian Constitution) के विषय में जानकारी।

Constitution gk in Hindi

प्रधानमन्त्री मोरारजी देसाई के मन्त्रिमण्डल में दो व्यक्ति उप-प्रधानमन्त्री थे।

चौधरी देवीलाल दो प्रधानमन्त्रियों के मन्त्रिमण्डल में उप-प्रधानमन्त्री थे।

भारत में वह मन्त्री जो संसद के दोनों सदनों में से किसी सदन का भी सदस्य नहीं है उसे छः माह के भीतर निर्वाचित होना आवश्यक है।

गृह मन्त्रालय का मुख्य कार्य आन्तरिक सुरक्षा और राजनीतिक मामले हैं।

प्रधानन्त्री के त्याग पत्र देने की स्थिति में मन्त्रिपरिषद् भंग कर दी जाती है।

सभी राज्यों का लोक सभा में अधिकतम 530 प्रतिनिधित्व हैं।

राष्ट्रपति के मृत्यु के उपरान्त उपराष्ट्रपति, राष्ट्रपति का पद अधिक से अधिक छः माह तक संभाल सकते हैं।

राष्ट्रपति के विरुद्ध महाभियोग की कार्यवाही संसद के किसी भी सदन में होती है।

वी.वी. गिरि ने राष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ने के लिए उपराष्ट्रपति पद से इस्तीफा दिया था।

भारत के मुख्य न्यायाधीश एम. हिदायतुल्ला ने राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया है।

संसद द्वारा निर्मित विधान पर लगे सीमा बन्धनों के तहत अध्यादेश राष्ट्रपति द्वारा जारी किया जाता है।

भारतीय उपराष्ट्रपति की स्थिति अमेरिका के राष्ट्रपति की स्थिति से वशेष साम्य रखती है।

उपराष्ट्रपति अपना त्याग पत्र राष्ट्रपति को संबोधित करते हुए देते हैं।

राष्ट्रपति प्रतिरक्षा बलों का सर्वोच्च सेनापति होता है।

राष्ट्रपति को संसद का अभिन्न अंग माना गया है।

राष्ट्रपति लोकसभा का विघटन कर सकता है।

राष्ट्रपति संसद के किसी भी सदन को संदेश भेज सकता है।

राष्ट्रपति के पास राज्य सभा में 12 सदस्यों को नामांकित का अधिकार होता है।

पॉकेट वीटो शक्तियाँ अमेरिकी तथा भारतीय दोनों राष्ट्रपतियों को उपलब्ध है।

संसद में भारतीय राष्ट्रपति पर महाभियोग एक वैधानिक प्रक्रिया है।

मृत्युदण्ड के मामले में क्षमादान की शक्ति राष्ट्रपति को प्राप्त है।

42वें संविधान संशोधन द्वारा यह स्पष्ट कर दिया गया है कि राष्ट्रपति मन्त्रिमण्डल की सलाह मानने के लिए बाध्य है।

हमारी वेबसाइट Gyan Sagar General Knowledge आपके सामान्य ज्ञान (gk in Hindi) में वृद्धि हेतू समर्पित है। आशा है कि आपको यह जानकारी पसन्द आई होगी।

यदि आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो शेयर करना ना भूलें।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Important General Knowledge in Hindi – 17

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

gk in Hindi

आपके सामान्य ज्ञान (General Knowledge in Hindi) बढ़ाने के लिए Gyan Sagar gk में प्रस्तुत है महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान (gk in Hindi)!

  • एकमात्र डॉ. जाकिर हुसैन ऐसे नेता हैं जो राज्यपाल, उपराष्ट्रपति तथा राष्ट्रपति तीनों ही पदों पर रहे हैं।
  • भारत के प्रथम उपराष्ट्रपति कृष्णकान्त पद पर रहते हुए स्वर्गवासी हुए।
  • राष्ट्रपति धन विधेयक पर अपनी स्वीकृति देने से अस्वीकार नहीं कर सकते।
  • किसी साधारण धन विधेयक के सम्बन्ध में राष्ट्रपति विधेयक को पुनर्विचार के लिए संसद वापस भेज सकते हैं, विधेयक को अनुमति विधारित कर सकते हैं, विधेयक को अनुमति दे सकते हैं, निर्णय ले सकते हैं।
  • भारत के राष्ट्रपति की स्थिति तुलनात्मक दृष्टि से ब्रिटिश महारानी के सर्वाधिक समीप है।
  • उपराष्ट्रपति को अपने कार्यकाल की समाप्ति से पूर्व राज्यसभा के सदस्यों द्वारा यदि लोकसभा सदस्य सहमत हों तो अपदस्थ किया जा सकता है।
  • 26 जनवरी 1950 से राष्ट्रपति पद के लिए प्रथम चुनाव होने तक भारत के अन्तरिम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद थे।
  • डॉ. एस. राधाकृष्णन लगातार दो बार उपराष्ट्रपति तथा एक बार राष्ट्रपति थे।
  • श्रीमती प्रतिभा पाटिल को भारत की प्रथम महिला राष्ट्रपति होने का गौरव प्राप्त है।
  • डॉ. आर.के. नारायण दलित वर्ग से भारत के प्रथम राष्ट्रपति थे।
  • डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम भारत के एकमात्र अविवाहित राष्ट्रपति हैं।
  • भारत के तीन उपराष्ट्रपति अब तक निर्विरोध निर्वाचित हुए हैं।
  • राष्ट्रपति वी.वी. गिरि के निर्वाचन के समय दूसरे चक्र की मतगणना करनी पड़ी थी।
  • कर्नाटक में राष्ट्रपति शासन की अवधि सबसे कम, मात्र सात दिन, रही।
  • प्रथम महिला राष्ट्रपति बनने से पूर्व श्रीमती प्रतिभा पाटिल राजस्थान राज्य की प्रथम महिला राज्यपाल थीं।

हमारी वेबसाइट Gyan Sagar General Knowledge आपके सामान्य ज्ञान (gk in Hindi) में वृद्धि हेतु समर्पित है। आशा है कि आपको यह जानकारी पसन्द आई होगी।

यदि आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो शेयर करना ना भूलें।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Important General Knowledge in Hindi – 16

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

gk in Hindi

आपके सामान्य ज्ञान (General Knowledge in Hindi) बढ़ाने के लिए Gyan Sagar gk में प्रस्तुत है महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान (gk in Hindi)!

  • चन्द्रगुप्त मौर्य ने ई.पू. 322 में नन्दवंश के अन्तिम शासक धनानन्द को पराजित कर मौर्य साम्राज्य की स्थापना की।
  • चन्द्रगुप्त मौर्य ने मौर्य साम्राज्य की स्थापना चाणक्य की सहायता से की थी।
  • ‘इंडिका’ के रचनाकार मेगस्थनीज हैं।
  • चन्द्रगुप्त मौर्य ने अपने जीवन के अन्तिम काल में जैन धर्म स्वीकार किया था।
  • ई.पू. 298 में श्रवणबेलगोला में चन्द्रगुप्त मौर्य की मृत्यु हुई।
  • कौटिल्य ने ‘अर्थशास्त्र’ की रचना की।
  • तमिल ग्रंथ अहनानरु तथा मुरनानुरु में चन्द्रगुप्त मौर्य के दक्षिण विजय का उल्लेख है।
  • चन्द्रगुप्त मौर्य के गुरु भद्रबाहु थे।
  • चाणक्य चन्द्रगुप्त मौर्य मौर्य के प्रधानमन्त्री थे।
  • चन्द्रगुप्त मौर्य ने सल्लेखना विधि से (भूखे-प्यासे रहकर) अपने शरीर का त्याग किया।
  • चन्द्रगुप्त मौर्य का पुत्र बिन्दुसार ई.पू. 298 में गद्दी पर बैठा।
  • तक्षशिला का विद्रोह बिन्दुसार के समय हुआ।
  • बिन्दुसार आजीवक सम्प्रदाय का अनुयायी था।
  • अशोक ने काश्मीर में श्रीनगर बसाया।
  • ई.पू. 261 में अशोक ने कलिंग विजय की।
  • कलिंग का शासक नन्दराज था।
  • अशोक ने नेपाल में ललित पत्तन नामक नगर बसाया।
  • बौद्ध धर्म स्वीकार करने के पूर्व अशोक शिव का उपासक था।
  • अशोक के अभिलेखों को सर्वप्रथम जेम्स प्रिंसेप ने पढ़ा।
  • मौर्य वंश का अन्तिम शासक वृहद्रथ था।
  • वृहद्रथ की हत्या पुष्यमित्र शुंग ने की थी।
  • अशोक के टोपरा और मेरठ के स्तम्भों को फिरोजशाह दिल्ली लाया।
  • कौशाम्बी स्तम्भ को जहांगीर ने इलाहाबाद लाया।
  • अशोक के अधिकांश अभिलेख ब्राह्मी लिपि में लिखे गये थे।
  • मानसेहरा और शाहबाजगढ़ी दो शिलालेख खरोष्ठी लिपि में लिखे गये थे।
  • वृहद शिलालेखों की संख्या 14 है।
  • सन् 1750 में पाद्रेटी फेन्थैलर ने अशोक के शिलालेखों की खोज की थी।

हमारी वेबसाइट Gyan Sagar General Knowledge आपके सामान्य ज्ञान (gk in Hindi) में वृद्धि हेतु समर्पित है। आशा है कि आपको यह जानकारी पसन्द आई होगी।

यदि आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो शेयर करना ना भूलें।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail