Archives for Shayari

O Des Se Aane Wale Bata (Ghazal)

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

गज़ल (Ghazal), शायरी (Shayari) किसी के भी मन की भावनाओं को तरंगित कर देने वाली चीजें हैं। इन्हें पढ़ या सुनकर व्यक्ति झूम उठता है।

प्रस्तुत है अख्तर शीरानी (Akhtar Sheerani) की गज़ल (Ghazal) “ओ देस से आने वाले बता” (O Des Se Aane Wale Bata)

O des se aane wale bata

ओ देस से आने वाले बता!

क्‍या अब भी वहाँ के बाग़ों में मस्‍ताना हवाएँ आती हैं?
क्‍या अब भी वहाँ के परबत पर घनघोर घटाएँ छाती हैं?
क्‍या अब भी वहाँ की बरखाएँ वैसे ही दिलों को भाती हैं?

क्‍या अब भी वतन में वैसे ही सरमस्‍त नज़ारे होते हैं?
क्‍या अब भी सुहानी रातों को वो चाँद-सितारे होते हैं?
हम खेल जो खेला करते थे अब भी वो सारे होते हैं?

ओ देस से आने वाले बता!

शादाबो-शिगुफ़्ता फूलों से मा’ मूर हैं गुलज़ार अब कि नहीं?
बाज़ार में मालन लाती है फूलों के गुँधे हार अब कि नहीं?
और शौक से टूटे पड़ते है नौउम्र खरीदार अब कि नहीं?

(शादाबो-शिगुफ़्ता = प्रफुल्‍ल, मा’ = स्‍फुटित, मूर = परिपूर्ण, गुलज़ार = वाटिका)

ओ देस से आने वाले बता!

क्‍या शाम पड़े गलियों में वही दिलचस्‍प अंधेरा होता हैं?
और सड़कों की धुँधली शम्‍मओं पर सायों का बसेरा होता हैं?
बाग़ों की घनेरी शाखों पर जिस तरह सवेरा होता हैं?

ओ देस से आने वाले बता!

क्‍या अब भी वहाँ वैसी ही जवां और मदभरी रातें होती हैं?
क्‍या रात भर अब भी गीतों की और प्‍यार की बाते होती हैं?
वो हुस्‍न के जादू चलते हैं वो इश्‍क़ की घातें होती हैं?

ओ देस से आने वाले बता!

क्‍या अब भी महकते मन्दिर से नाक़ूस की आवाज़ आती है?
क्‍या अब भी मुक़द्दस मस्जिद पर मस्‍ताना अज़ां थर्राती है?
और शाम के रंगी सायों पर अ़ज़्मत की झलक छा जाती है?

(नाक़ूस = शंख, मुक़द्दस = पवित्र, अज़ां = अजान, अ़ज़्मत = महानता)

ओ देस से आने वाले बता!

क्‍या अब भी वहाँ के पनघट पर पनहारियाँ पानी भरती हैं?
अँगड़ाई का नक़्शा बन-बन कर सब माथे पे गागर धरती हैं?
और अपने घरों को जाते हुए हँसती हुई चुहलें करती है?

ओ देस से आने वाले बता!

क्‍या अब भी वहाँ मेलों में वही बरसात का जोबन होता है?
फैले हुए बड़ की शाखों में झूलों का निशेमन होता है?
उमड़े हुए बादल होते हैं छाया हुआ सावन होता है?

ओ देस से आने वाले बता!

क्‍या शहर के गिर्द अब भी है रवाँ दरिया-ए-हसीं लहराए हुए?
ज्यूं गोद में अपने मन को लिए नागन हो कोई थर्राये हुए?
या नूर की हँसली हूर की गर्दन में हो अ़याँ बल खाये हुए?

(रवाँ = बहती है, दरिया-ए-हसीं = सुन्‍दर नदी, मन = मणि, नूर = प्रकाश, अ़याँ = प्रकट)

ओ देस से आने वाले बता!

क्‍या अब भी किसी के सीने में बाक़ी है हमारी चाह? बता!
क्‍या याद हमें भी करता है अब यारों में कोई? आह बता!
ओ देश से आने वाले बता लिल्‍लाह बता, लिल्‍लाह बता!

(लिल्‍लाह = भगवान के लिए)

ओ देस से आने वाले बता!

क्‍या गाँव में अब भी वैसी ही मस्ती भरी रातें आती हैं?
देहात में कमसिन माहवशें तालाब की जानिब जाती हैं?
और चाँद की सादा रोशनी में रंगीन तराने गाती हैं?

ओ देस से आने वाले बता!

क्‍या अब भी गजर-दम चरवाहे रेवड़ को चराने जाते हैं?
और शाम के धुंधले सायों में हमराह घरों को आते हैं?
और अपनी रंगीली बांसुरियों में इश्‍क़ के नग्‍मे गाते हैं?

(गजर-दम = सुबह)

ओ देस से आने वाले बता!

आखिर में ये हसरत है कि बता वो ग़ारते-ईमां कैसी है?
बचपन में जो आफ़त ढाती थी वो आफ़ते-दौरां कैसी है?
हम दोनों थे जिसके परवाने वो शम्‍मए-शबिस्‍तां कैसी हैं?

(ग़ारते-ईमां = धर्म नष्ट करने वाली, अत्यन्त सुन्दरी, आफ़ते-दौरां = संसार के लिए आफत, शम्‍मए-शबिस्‍तां = शयनाकक्ष का दीपक)

ओ देस से आने वाले बता!

क्‍या अब भी शहाबी आ़रिज़ पर गेसू-ए-सियह बल खाते हैं?
या बहरे-शफ़क़ की मौजों पर दो नाग पड़े लहराते हैं?
और जिनकी झलक से सावन की रातों के से सपने आते हैं?

(शहाबी आ़रिज़ = गुलाबी कपोल, गेसू-ए-सियह = काले केश, बहरे-शफ़क़ = ऊषा का सागर, मौजों = लहरों)

ओ देस से आने वाले बता!

अब नामे-खुदा, होगी वो जवाँ मैके में है या ससुराल गई?
दोशीज़ा है या आफ़त में उसे कमबख़्त जवानी डाल गई?
घर पर ही रही या घर से गई, ख़ुशहाल रही ख़ुशहाल गई?

ओ देस से आने वाले बता!

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Use Bhul Ja, Use Bhul Ja (Heart touching ghazal)

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

 

उर्दू गज़ल तथा शे’र-ओ-शायरी (Shairy) की बात बात ही निराली है। एक एक शे’र (Sher) मानो गागर में सागर होता है। मन एक अलग ही संसार में पहुँच जाता है गज़ल तथा शायरी (Shairy) सुनकर!

तो पेश है गज़ल (ghazal) – उसे भूल जा उसे भूल जा (Use Bhul Ja, Use Bhul Ja)

Shayari

वो जो मिल गया उसे याद रख
जो नहीं मिला उसे भूल जा

वो तेरे नसीब की बारिशें
किसी और छत पे बरस गईं
दिल-ए-बेख़बर मेरी बात सुन
उसे भूल जा उसे भूल जा

मैं तो गुम था उसके ही ध्यान में
उसकी आस में, उसके गुमान में
हवा कह गई मेरे कान में
मेरे साथ आ उसे भूल जा

जो बिसात-ए-जां उलट गया
वो जो रास्ते से पलट गया
उसे रोकने से हुसूल क्या
उसे मत बुला उसे भूल जा

 

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Main to mar kar bhi meri jaan tujhe chahunga

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

उर्दू शायरी (Shayari) की कोई मिसाल नहीं है। यह ‘गागर में सागर’ है।

तो पेश है क़तील शिफाई की गज़ल (Ghazal) “मैं तो मर कर भी मेरी जान तुझे चाहूँगा” (Main to mar kar bhi meri jaan tujhe chahunga)

ज़िन्दगी में तो सभी प्यार किया करते हैं
मैं तो मर कर भी मेरी जान तुझे चाहूँगा

तू मिला है तो ये एहसास हुआ है मुझको
ये मेरी उम्र मोहब्बत के लिए थोड़ी है
इक ज़रा सा गम-ए-दौरां का भी हक है जिस पर
मैंने वो साँस भी तेरे लिए रख छोड़ी है
तुझ पे हो जाऊँगा कुर्बान तुझे चाहूँगा

अपने जज्बात में नग़मात रचाने के लिए
मैं ने धड़कन की तरह दिल में बसाया है तुझे
मैं तसव्वुर भी जुदाई का भला कैसे करूँ
मैंने किस्मत की लकीरों से चुराया है तुझे
प्यार का बन के निगेहबान तुझे चाहूँगा

तेरी हर चाप से जलते हैं ख्यालों में चिराग
जब भी तू आये जगाता हुआ जादू आये
तुझको छू लूँ तो फिर ऐ जान-ए-तमन्ना मुझको
देर तक अपने बदन से तेरी खुशबू आये
तू बहारों का है उन्वान तुझे चाहूँगा

ज़िन्दगी में तो सभी प्यार किया करते हैं
मैं तो मर कर भी मेरी जान तुझे चाहूँगा

क़तील शिफाई (Qatil Shifai)

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail