Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

पेश है हिन्दी में सामान्य ज्ञान (General Knowledge in Hindi) से सम्बन्धित जानकारी।

यहाँ पर हम प्राचीन भारत (Ancient India) से सम्बन्धित जानकारी दे रहे हैं। ये जानकारी इतिहास सामान्य ज्ञान (History General Knowledge in Hindi) के लिए महत्वपूर्ण हैं।

Ancient India Related General Knowledge in Hindi

  • सन् 326 में मेसिडोनिया के शासक सिकन्दर ने भारत पर आक्रमण किया था।
  • सिकन्दर खैबर दर्रा पार कर के भारत आया था।
  • तक्षशिला के शासक आम्भि ने सिकन्दर की अधीनता स्वीकार की थी।
  • राजा पोरस ने सिकन्दर प्रतिरोध किया था।
  • राजा पोरस सिकन्दर का का पहला और सबसे शक्तिशाली विरोधी था।
  • सिकन्दर और पुरु के मध्य हुआ युद्ध हाइडेस्पीज का युद्ध कहलाता है।
  • यद्यपि युद्ध में राजा पोरस की पराजय हुई किन्तु उनकी वीरता से प्रसन्न होकर सिकन्दर ने जीता हुआ राज्य उन्हे वापस कर दिया था।
  • मगध राज्य के उत्थान वंश, हर्यक वंश, शिशुनाग वंश, नंद वंश, मौर्य वंश का योगदान रहा था।
  • चन्द्रगुप्त मौर्य ने विष्णुगुप्त की सहायता से धनानन्द को पराजित किया था।
  • चाणक्य, जिन्हें कौटिल्य तथा विष्णुगुप्त के नाम से भी जाना जाता है, चन्द्रगुप्त के गुरु थे।
  • मौर्य वंश की स्थापना चन्द्रगु्प्त मौर्य ने की थी।
  • मौर्य वंश की स्थापना ई.पू. 322 में हुई थी।
  • चाणक्य चन्द्रगुप्त मौर्य के प्रधानमंत्री थे।
  • चाणक्य ने चन्द्रगुप्त मौर्य के शासन का विस्तार करने में सर्वाधिक सहायता प्रदान की थी।
  • कौटिल्य रचित अर्थशास्त्र की तुलना मैकियावेली के ‘प्रिंस’ से की जाती है।
  • मैगस्थनीज चन्द्रगुप्त मौर्य के शासनकाल में भारत आया था।
  • मैगस्थनीज ने इण्डिका नाम की पुस्तक लिखी।
  • चंद्रगुप्त मौर्य ने अपने अंतिम दिनों में जैनधर्म को अपना लिया था।
  • चन्द्रगुप्त मौर्य के बाद उसका पुत्र बिन्दुसार मगध का उत्तराधिकारी बना।
  • बिन्दुसार के दरबार में डाइमेकस सीरिया का राजदूत बनकर आया था।
  • बिन्दुसार के शासन काल में तक्षशिला में विद्रोह हुआ था।
  • बिंदुसार ने विद्रोहियों को कुचलने के लिए अशोक को तक्षशिला भेजा था।
  • बिन्दुसार ब्राह्मण धर्म का धर्म का अनुयायी था।
  • बिन्दुसार की मृत्यु के पश्चात अशोक मगध की गददी पर बैठा।
  • अशोक का राज्याभिषेक पाटलिपुत्र में हुआ था।
  • अशोक के बौद्ध गुरू का नाम उपगुप्त था।
  • अशोक ने सिंहासन पर बैठने के लिए अपने बड़े भाई का वध किया था।
  • अशोक की पत्नी कारुवाकी ने उसे अत्यन्त प्रभावित किया था।
  • अशोक ‘देवान प्रियदर्शी’ के नाम से भी जाना जाता था।
  • कलिंग का युद्ध ई.पू 261 में हुआ था।
  • कलिंग के युद्ध ने अशोक के जीवन में एक महान परिवर्तन का सूत्रपात किया।
  • अशोक ने कलिंग के युद्ध के बाद बौद्ध धर्म को अपनाया।
  • अशोक ने बौद्ध धर्म के प्रचार हेतु अपने पुत्र महेन्द्र, बेटी चारू मित्रा व संघमित्रा को श्रीलंका तथा नेपाल भेजा था।
  • अशोक के सारनाथ के स्तम्भ पर चार सिंहों का शीर्ष बना हुआ है।
Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail