Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

gk in Hindi

आपके सामान्य ज्ञान (General Knowledge in Hindi) बढ़ाने के लिए Gyan Sagar gk में प्रस्तुत है महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान (gk in Hindi)!

श्रीलंका में दीपवंश और महावंश ग्रन्थों को रामायण और महाभारत के समान पवित्र माना जाता है।

प्राचीन भारत में शाक्य (कपिलवस्तु) और लिच्छिवि (वैशाली) गणतन्त्र थे।

बिम्बिसार ने अपने राजवैद्य जीवक को अवन्ति राज्य के राजा की चिकित्सा के लिए भेजा था।

पुराणों के अनुसार हर्यक वंश के शासकों में अन्तिम प्रमुख दर्शक शासक हुआ था।

यूनानी स्रोतों में अग्रमीज एवं जैन्द्रमीज मगध के धननन्द राजा को कहा जाता है।

मगध का शासक अजातशत्रु राजा बनने के पूर्व अंग का राज्यपाल था और उसे कूणिक के नाम से जाना जाता है।

अपने पिता फिलिप की मृत्यु के बाद सिकन्दर मेसिडोनिया का शासक बना।

शिशुनाग वंश का अन्तिम शासक नन्दिवर्धन था।

बौद्ध धर्म के प्रचार के लिए पाली भाषा का प्रयोग हुआ।

मृगदाव (सारनाथ) में बुद्ध द्वारा दिया गया प्रथम उपदेश धर्मचक्र प्रवर्तन नाम से जाना जाता है।

जातक कथा ग्रन्थ का सम्बन्ध बुद्ध से है।

महावीर का जन्म ज्ञातुक नाम के क्षत्रिय गोत्र में हुआ था।

जैन धर्म में पूर्ण ज्ञान के लिए कैवल्य शब्द प्रयोग किया जाता है।

बौद्ध संगीतियों के चार आयोजक अजातशत्रु, कालाशोक, अशोक तथा कनिष्क हैं।

द्वितीय बौद्ध संगीति का आयोजन कालाशोक ने करवाया था।

महात्मा बुद्ध का जन्म वैशाख पूर्णिमा को हुआ था।

गृहस्थ रहकर बौद्ध धर्म मानने वाले लोगों को उपासक कहा जाता था।

बुद्ध की शिक्षाएँ त्रिपिटक से मिलती हैं।

पाटलिपुत्र जैन परिषद् में जैन सम्प्रदाय श्वेताम्बर और दिगम्बर में विभाजित हो गया।

जैन मत के प्रचार-प्रसार में प्राकृत भाषा का प्रयोग हुआ था।

महात्मा बुद्ध ने दर्शन एवं योग की शिक्षा आलार कालाम से ग्रहण की थी।

महात्मा बुद्ध ने सर्वप्रथम उपदेश पाँच भिक्षुओं को दिया था।

लुम्बिनी नेपाल में स्थित है।

जिस पीपल के वृक्ष के नीचे बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी, उसे बोधिवृक्ष का नाम दिया गया।

ज्ञान प्राप्ति के बाद प्रज्ञावान, तथागत बुद्ध कहलाये।

हमारी वेबसाइट Gyan Sagar General Knowledge आपके सामान्य ज्ञान (gk in Hindi) में वृद्धि हेतु समर्पित है। आशा है कि आपको यह जानकारी पसन्द आई होगी।

यदि आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो शेयर करना ना भूलें।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail