Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

gk in Hindi

आपके सामान्य ज्ञान (General Knowledge in Hindi) बढ़ाने के लिए Gyan Sagar gk में प्रस्तुत है महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान (gk in Hindi)!

पाशुपत मत का सर्वप्रथम उल्लेख महाभारत, वायु पुराण एवं लिंग पुराण में मिलता है।

चीन में बौद्ध धर्म प्रथम शताब्दी ई. में पहुँचा था।

नासिक, अमरावती और मथुरा बौद्ध कला के प्रमुख केन्द्र थे।

प्रसेनजित, बिम्बिसार और अजातशत्रु महात्मा बुद्ध के समकालीन थे।

महावीर स्वामी गृह-त्याग के बाद यती कहलाये।

जैन धर्म के सिद्धान्त भारतीय षड्दर्शन के सांख्य दर्शन के नजदीक हैं।

महायानवाद को प्राचीन बौद्ध धर्म एवं हिन्दू धर्म के मध्य सेतु के रूप में जाना जाता है।

जातक कथाओं का सम्बन्ध बोधिसत्व के काल से है।

जैन धर्म में वणिक समुदाय का सर्वाधिक विश्वास था।

जैन धर्म का त्रिरत्न सम्यक् श्रद्धा, सम्यक् ज्ञान और सम्यक् आचरण से सम्बन्धित है।

आनन्द गौतम बुद्ध के सर्वाधिक प्रिय शिष्य थे।

गुप्त शासकों के अलावा पूर्वी चालुक्य वंशों के शासकों ने गरुड़ को अपना राजचिह्न बनाया था।

शिवलिंग को सृजनशीलता का परिचायक माना गया है।

जैन परम्परा के अनुसार वासुदेव कृष्ण अरिष्टनेमि तीर्थंकर के काल के थे।

यवन राजदूत हेलियोडोरस ने बेसनगर में आकर देवाधिदेव वासुदेव की अभ्यर्थना में गरुड़ध्वज की स्थापना की थी।

भागवत सम्प्रदाय का जन्म ई.पू. पाँचवीं सदी में हुआ था।

हमारी वेबसाइट Gyan Sagar General Knowledge आपके सामान्य ज्ञान (gk in Hindi) में वृद्धि हेतु समर्पित है। आशा है कि आपको यह जानकारी पसन्द आई होगी।

यदि आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो शेयर करना ना भूलें।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail