प्रस्तुत है श्री रामाधारी सिंह 'दिनकर (Ramadhari Singh Dinkar) की सुप्रसिद्ध रचना मेरे नगपति! मेरे विशाल! (Mere Nagpati Vishal) -मेरे नगपति! मेरे विशाल! (Mere Nagpati Vishal)रामाधारी सिंह 'दिनकर (Ramadhari Singh Dinkar)मेरे नगपति! मेरे विशाल! साकार, दिव्य, गौरव विराट्! पौरूष के पुञ्जीभूत ज्वाल! मेरी जननी के हिम-किरीट! मेरे भारत के ...