Tag archives for Ghazal

Tere Bheege Badan ki Khushboo se …

गज़ल (Ghazal), शायरी (Shayari) किसी के भी मन की भावनाओं को तरंगित कर देने वाली चीजें हैं। इन्हें पढ़ या सुनकर व्यक्ति झूम उठता है। प्रस्तुत है कलीम उस्मानी (Kaleem Usmani) की गज़ल (Ghazal) 'तेरे भीगे बदन की खुशबू से ' (Tere Bheege Badan ki Khushboo ...

Use Bhul Ja, Use Bhul Ja (Heart touching ghazal)

image-1589
  उर्दू गज़ल तथा शे'र-ओ-शायरी (Shairy) की बात बात ही निराली है। एक एक शे'र (Sher) मानो गागर में सागर होता है। मन एक अलग ही संसार में पहुँच जाता है गज़ल तथा शायरी (Shairy) सुनकर! तो पेश है गज़ल (ghazal) - उसे भूल जा उसे भूल ...

Main to mar kar bhi meri jaan tujhe chahunga

उर्दू शायरी (Shayari) की कोई मिसाल नहीं है। यह 'गागर में सागर' है। तो पेश है क़तील शिफाई की गज़ल (Ghazal) 'मैं तो मर कर भी मेरी जान तुझे चाहूँगा' (Main to mar kar bhi meri jaan tujhe chahunga) ज़िन्दगी में तो सभी प्यार किया करते हैं मैं ...