Tag archives for premchand - Page 2

Godan – 91 (Hindi Novel by Premchand)

image-2860
गोदान (Godan) मुंशी प्रेमचंद (Munshi Premchand) रचित कालजयी उपन्यास (Hindi Novel) है। गोदान - 91 (Godan - Hindi Novel by Premchand)संध्या समय जब होरी ने सिलिया को डरते-डरते रुपए दिए, तो वह जैसे अपनी तपस्या का वरदान पा गई। दु:ख का भार तो वह अकेली उठा ...

Godan – 90 (Hindi Novel by Premchand)

image-2837
गोदान (Godan) मुंशी प्रेमचंद (Munshi Premchand) रचित कालजयी उपन्यास (Hindi Novel) है। गोदान - 90 (Godan - Hindi Novel by Premchand)वर्षा समाप्त हो गई थी और रबी बोने की तैयारियाँ हो रही थीं। होरी की ऊख तो नीलाम हो गई थी। ऊख के बीज के लिए ...

Godan – 89 (Hindi Novel by Premchand)

image-2823
गोदान (Godan) मुंशी प्रेमचंद (Munshi Premchand) रचित कालजयी उपन्यास (Hindi Novel) है। गोदान - 89 (Godan - Hindi Novel by Premchand)नोहरी उन औरतों में न थी, जो नेकी करके दरिया में डाल देती हैं। उसने नेकी की है, तो उसका खूब ढिंढोरा पीटेगी और उससे जितना ...

Godan – 88 (Hindi Novel by Premchand)

image-2808
गोदान (Godan) मुंशी प्रेमचंद (Munshi Premchand) रचित कालजयी उपन्यास (Hindi Novel) है। गोदान - 88 (Godan - Hindi Novel by Premchand)खन्ना ने उतर कर शांत स्वर में कहा, 'कार आप ले जायँ। अब मुझे इसकी जरूरत नहीं है।'मालती और मेहता भी उतर पड़े। मालती ने कहा, ...

Godan – 87 (Hindi Novel by Premchand)

image-2791
गोदान (Godan) मुंशी प्रेमचंद (Munshi Premchand) रचित कालजयी उपन्यास (Hindi Novel) है। गोदान - 87 (Godan - Hindi Novel by Premchand)सहसा सामने सड़क पर हजारों आदमी मिल की तरफ दौड़े जाते नजर आए। खन्ना ने खड़े हो कर जोर से पूछा, 'तुम लोग कहाँ दौड़े जा ...

Godan – 86 (Hindi Novel by Premchand)

image-2781
गोदान (Godan) मुंशी प्रेमचंद (Munshi Premchand) रचित कालजयी उपन्यास (Hindi Novel) है। गोदान - 86 (Godan - Hindi Novel by Premchand)डाक्टर मेहता को काम करने का नशा था। आधी रात को सोते थे और घड़ी रात रहे उठ जाते थे। कैसा भी काम हो, उसके लिए ...

Godan – 85 (Hindi Novel by Premchand)

image-2768
गोदान (Godan) मुंशी प्रेमचंद (Munshi Premchand) रचित कालजयी उपन्यास (Hindi Novel) है। गोदान - 85 (Godan - Hindi Novel by Premchand)मिस्टर खन्ना को मजूरों की यह हड़ताल बिलकुल बेजा मालूम होती थी। उन्होंने हमेशा जनता के साथ मिले रहने की कोशिश की थी। वह अपने को ...

Godan – 84 (Hindi Novel by Premchand)

image-2756
गोदान (Godan) मुंशी प्रेमचंद (Munshi Premchand) रचित कालजयी उपन्यास (Hindi Novel) है। गोदान - 84 (Godan - Hindi Novel by Premchand)मिल में असंतोष के बादल घने होते जा रहे थे। मजदूर 'बिजली' की प्रतियाँ जेब में लिए फिरते और जरा भी अवकाश पाते, तो दो-तीन मजदूर ...

Godan – 83 (Hindi Novel by Premchand)

image-2746
गोदान (Godan) मुंशी प्रेमचंद (Munshi Premchand) रचित कालजयी उपन्यास (Hindi Novel) है। गोदान - 83 (Godan - Hindi Novel by Premchand)लेकिन झुनिया और गोबर में अब भी न पटती थी। झुनिया के मन में बैठ गया था कि यह पक्का मतलबी, बेदर्द आदमी है, मुझे केवल ...

Godan – 82 (Hindi Novel by Premchand)

image-2733
गोदान (Godan) मुंशी प्रेमचंद (Munshi Premchand) रचित कालजयी उपन्यास (Hindi Novel) है। गोदान - 82 (Godan - Hindi Novel by Premchand)उसके शोक में भाग ले कर, उसके अंतर्जीवन में पैठ कर, गोबर उसके समीप जा सकता था, उसके जीवन का अंग बन सकता था, पर वह ...