Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

व्यक्तित्व विकास (Personality Development) की बातें करने के पहले यह जानना आवश्यक है कि आखिर व्यक्तित्व (Personality) है क्या?

अक्सर आपने सुना होगा कि किसी की सफलता (success) के पीछे उसके व्यक्तित्व (Personality) का बहुत बड़ा योगदान होता है; यदि जीवन में सफलता (success) प्राप्त करना है तो अपने व्यक्तित्व (Personality) का विकास करना ही होगा।

किन्तु एक सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि आखिर व्यक्तित्व (Personality) है क्या चीज? क्योंकि यदि हम यही नहीं जानेंगे कि व्यक्तित्व (Personality) क्या है तो फिर उसका विकास कैसे कर पायेंगे?

व्यक्तित्व (Personality) शब्द व्यक्ति शब्द से बना है। देखा जाये तो प्रायः सभी व्यक्ति एक समान होते हैं; सभी में समान मानवीय गुण होते हैं, सभी का शरीर एक समान होता है, एक व्यक्ति उन्हीं भावनाओं का अनुभव करता है जिसे कि दूसरा व्यक्ति करता है।

किन्तु यह भी सच है कि सभी व्यक्ति अपने आचार-व्यवहार में एक दूसरे से बिल्कुल अलग होते हैं। दो व्यक्ति कभी भी एक दूसरे के बिल्कुल अनुरूप नहीं होते। कोई व्यक्ति अपने जीवन में ठीक वैसा ही अनुभव नहीं कर सकता जैसा कि किसी दूसरे व्यक्ति ने किया हो। दो व्यक्तियों के विचार भी कभी भी बिल्कुल एक समान नहीं हो सकते। यहाँ तक कि जुड़वाँ भाई या बहनों तक के भी नहीं।

तो यह कहा जा सकता है कि वह वस्तु जो किसी व्यक्ति को अन्य व्यक्तियों से अलग बनाती है ही व्यक्तित्व (Personality) है।

किसी व्यक्ति का व्यक्तित्व ऐसा होता है कि उसे सभी पसन्द करते हैं और इससे उलटे ऐसा भी होता है कि कोई व्यक्ति ऐसा भी होता है जिसे कोई भी पसन्द नहीं करता। जीवन में सफल वही व्यक्ति होता है जिसका व्यक्तित्व (Personality) प्रभावशाली हो तथा जिसे अधिक से अधिक लोग पसन्द करें।

व्यक्तित्व को प्रभावशाली बनाने को ही व्यक्तित्व विकास (Personality Development) के रूप में जाना जाता है। आजकल अच्छा कैरियर (career) प्राप्त करने के लिए व्यक्तित्व विकास (Personality Development) को अनिवार्य माना जाता है।

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail